HomeCrimeअल जवाहिरी जहां मारा गया... वहीं शूटिंग कर रहा था अमेरिकी पत्रकार,...

अल जवाहिरी जहां मारा गया… वहीं शूटिंग कर रहा था अमेरिकी पत्रकार, तालिबानी उठा ले गए

 

 

बीते 17 अगस्त को पत्रकार शीयरर और फैजबख्श राजधानी काबुल में जिला 10 के शेरपुर इलाके में शूट कर रहे थे, जहां अगस्त में एक अमेरिकी ड्रोन हमले में अलकायदा नेता अयमान अल जवाहिरी मारा गया था।

 

तालिबान ने अमेरिकी पत्रकार व स्वतंत्र फिल्म निर्माता आइवर शीयरर और अफगान प्रोड्यूसर फैजुल्लाह फैजबख्श को हिरासत में ले लिया है। न्यूयॉर्क स्थित एक मीडिया वॉचडॉग ने उन्हें तुरंत रिहा करने की मांग की है। रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबानियों ने इन दोनों को किसी अज्ञात जगह पर छिपाकर रखा है।

 

17 अगस्त को शीयरर और फैजबख्श काबुल में जिला 10 के शेरपुर इलाके में शूट कर रहे थे, जहां अगस्त में अमेरिकी ड्रोन हमले में अलकायदा नेता अयमान अल जवाहिरी मारा गया था। इसी दौरान दोनों को सुरक्षा गार्डों ने फिल्मिंग करने से रोक दिया और उन्हें हिरासत में ले लिया।

 

पत्रकार को अमेरिकी जासूस बताते रहे तालिबानी 
कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (CPJ) के मुताबिक, सुरक्षा कर्मियों ने शीयरर और फैजबख्श के काम को लेकर सवाल पूछे और वर्क परमिट की जांच की। उनके आईडी कार्ड्स, पासपोर्ट्स और सेलफोन भी देखे गए। वे लोग उन्हें अमेरिकी जासूस बताते रहे और फिर हिरासत में ले लिया।

 

दोनों की आंखों पर बांध दी पट्टी 
सुरक्षा अधिकारियों ने इसकी जानकारी तालिबान के खुफिया विभाग को दी। इसके बाद करीब 50 सशस्त्र खुफिया कर्मी मौके पर पहुंचे। इन लोगों ने भी उनसे कुछ सवाल-जवाब किए। इसके बाद उन्होंने शीयरर और फैजबख्श की आंखों पर पट्टी बांध दी और उन्हें किसी अज्ञात स्थान पर लेकर गए।

 

अफगानिस्तान में प्रेस स्वतंत्रता को लेकर चिंता 
सीपीजे के कार्यक्रम निदेशक कार्लोस मार्टिनेज डे ला सेर्ना ने कहा, ‘पत्रकारों और मीडिया कर्मियों पर तालिबान का दबाव बढ़ता ही जा रहा है। इसी कड़ी में अमेरिकी फिल्म निर्माता इवोर शीयरर और उनके अफगान सहयोगी फैजुल्ला फैजबख्श की नजरबंदी की गई है। यह अफगानिस्तान में प्रेस की स्वतंत्रता के सिद्धांत को लेकर तालिबान की प्रतिबद्धता की कमी को दर्शाता है।’

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular