HomeEducationNSUT Admission 2022: नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने विभिन्न कोर्सों में 400...

NSUT Admission 2022: नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने विभिन्न कोर्सों में 400 सीटें बढ़ाईं

 

NSUT Admission 2022: नेताजी सुभाष प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एनएसयूटी) में इस साल लगभग 400 सीटें बढ़ा दी गई हैं। विश्वविद्यालय ने अपने यहां स्नातक पाठ्यक्रमों में छात्राओं के लिए सुपर न्यूमेरिरी सीटों की संख्या पिछले वर्ष की अपेक्षा दोगुनी कर दी हैं। यहां शुरू हुए नए कोर्स और सुपर न्यूमेरिरी सीट मिलाकर इस साल लगभग 400 सीटें बढ़ जाएंगी।

दाखिले नए सत्र में होंगे। पहले जहां स्नातक के पाठ्यक्रमों में 10 फीसदी छात्राओं के लिए सुपर न्यूमेरिरी सीटें आवंटित की गई थी। विश्वविद्यालय ने अब उसे बढ़ाकर 20 फीसदी कर दिया है। विश्वविद्यालय ने यह पहल तकनीकी शिक्षा में छात्राओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए की है।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जेपी सैनी ने बताया कि एनएसयूटी जब विश्वविद्यालय बना तब से यहां लगातार सीटों की संख्या में इजाफा किया गया है। जब यह विश्वविद्यालय बना था तब यहां सीटों की संख्या 1145 थी, लेकिन सत्र 2022-23 में यह संख्या 3500 के आसपास हो जाएगी। वर्तमान में एनएसयूटी में 23 सौ के आसपास सीटें स्नातक में थी।

शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक पदों पर नियुक्तियां : विश्वविद्यालय ने शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक पदों पर अपने यहां नियुक्तियां की हैं। गैर शैक्षणिक पदों पर 90 कर्मचारियों की नियुक्तियां हुई हैं जबकि शैक्षणिक पदों पर 152 शिक्षकों की नियुक्तियां प्रक्रिया में हैं। पूर्व में यहां लगभग 60 शिक्षकों की नियुक्तियां हुई हैं।

2500 सीटें स्नातक के लिए
प्रो. सैनी ने बताया कि हमारे यहां स्नातक में लगभग सुपर न्यूमेरिरी को लेकर कुल 2500 सीटें स्नातक के लिए हैं। यानी इस बार स्नातक में लगभग 230 सीट सुपर न्यूमेरिरी में बढ़ जाएंगी। इसके बाद परास्नातक में 60 सीट बढ़ाई गई हैं। एमएससी फिजिक्स और केमिस्ट्री में भी 30-30 सीटों को बढ़ाया गया है। बीबीए आईईवी में भी इन शैक्षणिक सत्र में 40 सीटों का प्रोग्राम शुरू किया गया है। हर वर्ष विश्वविद्यालय में सीटों की संख्या बढ़ाई जा रही है।

सुपर न्यूमेरिरी सीट के ये हैं मायने
किसी भी विश्वविद्यालय में सुपर न्यूमेरिरी सीट किसी कोर्स की निर्धारित संख्या के अतिरिक्त वह सीट होती है जिस पर दाखिला दिया जाता है। यह निर्धारित इंटेक का कुछ फीसदी होता है। जैसे डीयू में ईसीएस और स्पोर्ट्स की सीट सुपर न्यूमेरिरी होती है। उसी तरह एनएसयूटी में छात्राओं के लिए 20 फीसदी सीट सुपर न्यूमेरिरी में निर्धारित की हैं।

परास्नातक के कई कोर्स
एनएसयूटी के कुलपति प्रो. जेपी सैनी ने बताया कि इस साल नई शिक्षा नीति के अनुसार मानविकी के कोर्स शुरू हो रहे हैं। इसमें एमए इंग्लिश, एमए एप्लाएड साइकॉलाजी के अलावा बीबीए-एमबीए आईईवी इंट्रीग्रेटेड हैं। इसके अलावा एमएससी मैथमेटिक्स, एमएससी फिजिक्स में सीटों की संख्या भी बढ़ाई गई है।

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular