HomeBiharनीतीश कैबिनेट से कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार की होगी छुट्टी? लालू से...

नीतीश कैबिनेट से कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार की होगी छुट्टी? लालू से मुलाकात के बाद कयास शुरू; सीएम भी थे मौजूद

 

बिहार सरकार में कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार मंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही विवादों में घिर गए हैं। कार्तिकेय कुमार मोकामा के पूर्व राजद विधायक बाहूबली अनंत सिंह के करीबी माने जाते हैं।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के पटना आने के बाद दस सर्कुलर रोड स्थित पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार उनसे मिलने पहुंचें। इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी भी वहां मौजूद थे। मंत्री बनने के बाद कार्तिकेय कुमार ने लालू प्रसाद का आशीर्वाद लिया। मीडिया द्वारा उनसे जुड़े विवाद को लेकर पूछे जाने पर कार्तिकेय ने कहा कि हमने अपना पक्ष रख दिया है। अब सवाल उठने लगा है कि क्या नीतीश कैबिनेट से कार्तिक कुमार की छुट्टी होगी?

बता दें कि बिहार सरकार में कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार मंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही विवादों में घिर गए हैं। कार्तिकेय कुमार मोकामा के पूर्व राजद विधायक बाहूबली अनंत सिंह के करीबी माने जाते हैं। एक अपहरण कांड में जांच के दौरान उन्हें अभियुक्त बनाया गया था। इसी मामले में मंगलवार यानी 16 अगस्त को कोर्ट में उनकी पेशी थी। लेकिन, वह कोर्ट में हाजिरी नहीं देकर राजभवन मंत्री पद की शपथ लेने चले गये थे। इसे लेकर अदालत ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है। कार्तिकेय कुमार पर और भी कई मामले दर्ज हैं। हालांकि पुलिस ने अभी तक किसी मामले में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं की है।

क्या RJD से कार्तिक को कानून मंत्री बनाने के लिए तेजस्वी यादव ने नीतीश को अंधेरे में रखा ?

कार्तिकेय कुमार के इस कोर्ट में पेशी के ताजा मामले को लेकर अदालत द्वारा जारी वारंट पर सियासी विवाद भी गहरा गया है। भाजपा नेता व पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि कार्तिकेय कुमार को हाईकोर्ट से राहत नहीं मिली, तो निचली अदालत ने राहत कैसे दे दी। हाईकोर्ट इसकी जांच करे। रविशंकर प्रसाद पूर्व केन्द्रीय विधि मंत्री भी हैं। इस मामले में पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्यमंत्री नीतीश कमार से कार्तिकेय कुमार को तत्काल अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग़ की है। वहीं, राजद सुप्रीमो लालू यादव ने कार्तिकेय पर लगे आरोपों को गलत बताया है। इसके अलावा राजद प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा है कि अगर कार्तिकेय कुमार के खिलाफ लगे आरोपों में दम है, तो पार्टी उन पर कार्रवाई करेगी।

इस बीच कानून मंत्री कार्तिकेय कुमार ने अपने खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारंट पर कहा कि उनकी गिरफ्तारी पर 1 सितंबर तक के लिए रोक लगा दी गयी है। कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका को मंजूर कर लिया है। उन पर लगाये जा रहे तमाम आरोप निराधार हैं।

कानून मंत्री विवाद: आरजेडी चीफ लालू यादव बोले- ऐसा कोई मामला नहीं, सुशील मोदी झूठा आदमी

पटना के डाकबंगला स्थित एक मॉल में आयोजित प्रेस वार्ता में कार्तिकेय कुमार के साथ उनके वकीलों का पांच सदस्यीय पैनल भी मौजूद था। वकीलों ने बताया कि इस मामले में पुलिस की तरफ से अंतिम जांच रिपोर्ट दाखिल कर दी गयी है। इसमें कार्तिकेय कुमार को पूरे मामले में निर्दोष बताया गया है। अब पुलिस का काम है कि वे कोर्ट को इसकी सूचना दें। ताकि अपहरण से जुड़े इस मामले में वे बरी हो सकें। मंत्री ने कहा कि वह बस इतना कहेंगे कि हमलोग कानून संगत प्रक्रिया का पालन करने के लिए न्यायालय में गये हैं और उसके आदेश पर ही आगे की पहल करेंगे।

यह है पूरा मामला

कार्तिकेय कुमार उर्फ कार्तिक मास्टर पर बिल्डर राजू सिंह के अपहरण से जुड़ा मामला बिहटा थाना में 2014 में दर्ज हुआ था। इसमें बाद में उनको आरोपित बनाया गया था। वे इसी मामले में उन्हें दानापुर कोर्ट ने 14 जुलाई 2022 को यह आदेश जारी किया था कि वह सशरीर कोर्ट में 16 अगस्त को हाजिर हों। लेकिन वे हाजिर नहीं हो पाए। इस पर कोर्ट ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया था। गौरतलब है कि 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार में मंत्री के तौर पर वे राजभवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ ले रहे थे। वहीं, दानापुर एडीजे -3 न्यायालय ने 12 अगस्त को कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर 1 सितम्बर, 22 तक की रोक लगाने से संबंधित आदेश जारी किया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular