HomeBiharसुशील मोदी को जदयू ने याद दिलाए आंकसुशील मोदी को जदयू ने...

सुशील मोदी को जदयू ने याद दिलाए आंकसुशील मोदी को जदयू ने याद दिलाए आंकड़े, ललन सिंह बोले- मानव श्रृंखला बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था, ध्यान है न ड़े, ललन सिंह बोले- मानव श्रृंखला बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था, ध्यान है न

 

 

सुशील मोदी को जदयू ने याद दिलाए आंकड़े, ललन सिंह बोले- मानव श्रृंखला बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था, ध्यान है न

 

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने ट्वीट कर बीजेपी नेता सुशील मोदी पर हमला बोला है। कहा- कुछ बोलने से पहले देशभर का आंकड़ा देखिए। बिहार मानव श्रृंखला बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था ध्यान है ना।

 

बिहार में सारण जहरीली शराबकांड पर सियासी घमाासन जारी है। बीजेपी जहां नीतीश सरकार पर एक के बाद हमला कर रही है तो वहीं बिहार महागठबंधन के नेता भी जवाब देने में पीछे नहीं है। जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने बीजेपी नेता सुशील मोदी पर पलटवार किया है। उन्होने ट्वीट कर कहा, जहरीली शराब बनाना और पिलाना एक अपराधिक प्रवृत्ति है जो अपराध की श्रेणी में आता है। यह सिर्फ सारण की घटना नहीं है, पूरे देश की घटनाएं है। कुछ बोलने से पहले देशभर का अकड़ा देखिए। भाजपा सहित पुरा बिहार मानव श्रृंखला बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था, ध्यान है न।

 

इससे पहले बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने नीतीश सरकार पर निशाना साधा था। उन्होने कहा था कि बीजेपी मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिलाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। जब गोपालगंज के पीडितों को पैसा दिया गया तो सारण को क्यों नहीं। नीतीश सरकार हठ छोड़े और 4-4 लाख रुपए के मुआवजे का प्रावधान करे। जहरीली शराब पीकर मरने वाले ज्‍यादातर लोग गरीब ओर कमजोर तबके से आते हैं। इस लिए सरकार को उन्‍हें मुआवजा देना चाहिए।

 

वहीं बिहार विधानसभा में बीजेपी ने जहरीली शराबकांड की न्यायिक जांच की मांग की है और मुआवजे की मांग को लेकर हंगामा और प्रदर्शन किया। इस मामले पर भाकपा माले और माकपा के विधायकों ने भी मुआवजे की मांग पर प्रदर्शन किया। वाम दलों के विधायकों ने छपरा जहरीली शराब कांड के हर पीड़ित परिवार को 10-10 लाख मुआवजा देने की मांग की। वहीं इस बीच नीतीश सरकार के मध निषेध, उत्पाद एवं निबंधन मंत्री सुनील कुमार ने बड़ा बयान दिया है। उन्होने कहा कि बिहार में लागू शराबबंदी कानून में जहरीली शराब से मौत पर मुआवजा देने का प्रावधान ही नहीं है। यूपी, एमपी और हरियाणा समेत अन्य राज्यों में शराबबंदी नहीं है, लेकिन वहां भी जहरीली शराब से मौतें होती हैं। और जहरीली शराब से मौतों का आंकड़ा बिहार से कहीं ज्यादा है।

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular