HomeNationalढाई साल में दूसरी बार चीन से सीमा पर भिड़े भारतीय सेना...

ढाई साल में दूसरी बार चीन से सीमा पर भिड़े भारतीय सेना के जवान, जानिए कैसे उकसा रहा ड्रैगन

 

 

(india china tension) सूत्रों के मुताबिक चीन की ‘पीएलए के सैनिकों के साथ तवांग सेक्टर में एलएसी पर नौ दिसंबर को झड़प हुई। हमारे सैनिकों ने चीनी सैनिकों का दृढ़ता के साथ सामना किया।

 

भारत और चीनी सैनिकों के बीच एक बार फिर टकराव सामने आया है। सूत्रों के मुताबिक, नौ दिसंबर को अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में भारत और चीनी सैनिकों में झड़प हुई है। इस झड़प के साथ एक बार फिर से गलवान घाटी में हुई टकराव की यादें ताजा हो गईं। ऐसा पहली बार नहीं भारत और चीनी की सेना के बीच झड़प और टकराव सामने आया हो। भारत और चीन के बीच टकराव पहले भी देखने को मिल चुका है। पिछले दो साल में यह दूसरी बार है जब ड्रैगन ने अपनी हरकतों से भारत को उकसाने का प्रयास किया है।

 

करीब ढाई साल पहले गलवान में हुई थी झड़प
साल 2020 में 15-16 जून की रात भारतीय और चीनी सेना के बीच गलवान घाटी में एलएसी पर झड़प हुई थी। उस दौरान भारत के एक कमांडर समेत 20 जवान शहीद हुए थे। झड़प में चीन को भी नुकसान हुआ था और उसके भी कई सैनिकों की जान गई थी। हालांकि, उसने इस बात को कभी स्वीकार नहीं किया। बाद में चीन ने चार सैनिकों के मारे जाने की बात स्वीकारी थी। कई मीडिया रिपोर्ट में बताया गया था कि भारतीय जवानों के साथ झड़प में चीन के 38 सैनिक नदी में बह गए थे। जून महीन में हुई इस झड़प से पहले मई में भी झड़प सामने आई थी।

 

अब तक पांच बार बड़े टकराव
अगर देखा जाए तो भारत और चीन के बीच अब तक कुल पांच बार ऐसी झड़प देखने को मिल चुकी है। यह झड़प 1962, 1967, 1975, 2020 के बाद अब 2022 में देखने को मिली है। दोनों देशों के बीच सबसे बड़ा टकराव 1962 में देखने को मिला था जिसने बाद में युद्ध का रूप ले लिया था। इसके बाद 1967 में भी टकराव हुआ था, जिसमें भारत ने चीन को करारा जवाब दिया था। 1967 में मात खाने के बाद बौखलाया चीन लगातार मौके खोजता रहा। 1975 में अरुणाचल प्रदेश के तुलुंग ला में असम राइफल्स के जवानों की पैट्रोलिंग टीम पर अटैक किया गया। इस हमले में भारत के चार जवान शहीद हुए थे।

 

तवांग में क्या हुआ?
भारतीय और चीनी सैनिकों की अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के निकट एक स्थान पर नौ दिसंबर को झड़प हुई, जिससे दोनों पक्षों के कुछ जवान मामूली रूप से घायल हो गये। सैन्य सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिकों ने चीनी पीएलए सैनिकों का डटकर मुकाबला किया। एक सूत्र के मुताबिक पीएलए के सैनिकों के साथ तवांग सेक्टर में एलएसी पर नौ दिसंबर को झड़प हुई। हमारे सैनिकों ने चीनी सैनिकों का दृढ़ता के साथ सामना किया। इस झड़प में दोनों पक्षों के कुछ जवानों को मामूली चोटें आईं। सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्ष तत्काल क्षेत्र से पीछे हट गये।

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular