HomeBiharअर्द्धवार्षिक परीक्षा परिणाम : राज्य के 12.80 फीसदी विद्यार्थियों को मिले 90...

अर्द्धवार्षिक परीक्षा परिणाम : राज्य के 12.80 फीसदी विद्यार्थियों को मिले 90 से 100 फीसदी अंक

 

 

पहली कक्षा से आठवीं तक की अर्द्धवार्षिक परीक्षा में राज्यभर से 12.80 फीसदी छात्रों को 90 से सौ फीसदी तक अंक प्राप्त हुए हैं। सबसे बेहतर रिजल्ट छोटे जिलों के स्कूली छात्रों का है। खगड़िया जिले से 28 फी

 

पहली कक्षा से आठवीं तक की अर्द्धवार्षिक परीक्षा में राज्यभर से 12.80 फीसदी छात्रों को 90 से सौ फीसदी तक अंक प्राप्त हुए हैं। सबसे बेहतर रिजल्ट छोटे जिलों के स्कूली छात्रों का है। खगड़िया जिले से 28 फीसदी से अधिक बच्चों को ए ग्रेड मिला है। वहीं अरवल के 20.25 फीसदी छात्रों ने 90 से सौ फीसदी अंक प्राप्त किये हैं। वहीं राज्यभर के 42.30 % छात्रों को बी ग्रेड रिजल्ट मिला है। बी ग्रेड में सबसे बेहतर रिजल्ट औरंगाबाद जिला का है। औरंगाबाद जिला से 52.41 % छात्रों को 60 से 80% तक अंक मिले हैं।

 

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा तमाम जिलों से अर्द्धवार्षिक परीक्षा का रिपोर्ट कार्ड मांगा गया है। रिपोर्ट कार्ड की मानें तो 2022 की वार्षिक परीक्षा की तुलना में अर्द्धवार्षिक परीक्षा में सुधार हुआ है। इस बार 32 % से कम अंक लाने वाले यानी अनुत्तीर्ण विद्यार्थियों की संख्या 1.08 फीसदी रही। परीक्षा में राज्यभर से 14761149 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इसमें 18, 89,181 विद्यार्थी को ए ग्रेड , वहीं बी ग्रेड 6243567 (42.30 फीसदी) विद्यार्थियों को मिला। सी ग्रेड 5280131 (35.77 फीसदी) विद्यार्थियों को मिला। डी ग्रेड प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों की संख्या 1188881(8.05 %) और ई ग्रेड 159389 (1.08 %) विद्यार्थियों को मिला।

 

रिजल्ट को होगा आकलन
अर्द्धवार्षिक परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद अब उसका आकलन किया जायेगा। बिहार शिक्षा परियोजना परिषद द्वारा जिला स्तर पर इसके लिए कमेटी बनाई गयी हैं। ए ग्रेड अधिक से अधिक बच्चों को आयें, इसके लिए एससीईआरटी स्तर पर सुधार के उपाय किये जायेंगे। वार्षिक परीक्षा मार्च में होने वाली है। इससे पहले फरवरी में सभी स्कूलों को इस पर ध्यान देने को कहा गया है।

 

10 जिला जहां के छात्रों को मिला सबसे ज्यादा ए ग्रेड (81 से सौ फीसदी)
अरवल – 20.25%, खगड़िया – 28.10 %, पूर्वी चंपारण – 17.61 %, लखीसराय – 17.13 %, समस्तीपुर – 17.16 %, भोजपुर – 16.19 %, नवादा – 16.57 %, पटना – 16.53 %, पश्चिम चंपारण – 14.89 %, सीवान – 15.95 %

10 जिला जहां के छात्रों को मिला सबसे ज्यादा बी ग्रेड (61 से 80 फीसदी)
औरंगाबाद – 52.41%, सीवान – 51.38 %, जहानाबाद – 49.18 %, गया – 47. 44 %, शिवहर – 47.40 फीसदी%, बेगूसराय – 47.09 %, भागलपुर – 47.31 %, कटिहार – 46.85 %, नालंदा – 45.15 %, वैशाली – 45.51 %

10 जिला जहां के छात्रों को मिला सबसे ज्यादा सी ग्रेड (41 से 60 फीसदी)
अररिया – 39.81 %, बांका – 44.88 %, बक्सर – 38.28 %, दरभंगा – 45.79 %, कटिहार – 38.83 %, किशनगंज – 41.82 %, पूर्णिया – 44.62 %, सुपौल – 46.94 %, मुंगेर – 40.17 %, मुजफ्फरपुर – 40.64 %

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular