HomeBiharनीतीश सरकार पर बीजेपी का हमला, JDU विधायक के बेटे ने जो...

नीतीश सरकार पर बीजेपी का हमला, JDU विधायक के बेटे ने जो किया, उससे जंगलराज की याद आ गई

 

 

भागलपुर में जेडीयू विधायक के बेटे पर जमीन कब्जे को लेकर गोली चलाने का आरोप लगा है। जिस पर बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष हमला बोला है। और कहा JDU विधायक के बेटे ने जो किया, उससे जंगलराज की याद आ गई।

 

बिहार के भागलपुर में जेडीयू विधायक गोपाल मंडल के बेटे आशीष मंडल उर्फ टिंकू पर जमीन कब्जे को लेकर गोली चलाने का आरोप लगा है। जिसके बाद से इस मामले पर सियासत तेज हो गई है। बिहार बीजेपी के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने हमला बोला है। संजय ने कहा कि बिहार में अपराधियों का बोलबाला है। भागलपुर में जदयू विधायक के बेटे ने जो किया, उससे जंगलराज की याद आ गई।

 

जदयू पर बीजेपी हुई हमलावर

इससे पहले बिहार बीजेपी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने निशाना साधा था और कहा कि जब से बिहार में जेडीयू की सरकार बनी है तब से कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं। अब जेडीयू विधायक और उनके बेटे पर भागलपुर में अंधाधुंध फायरिंग का आरोप है लेकिन सीएम हाउस के दबाव में इस शर्मनाक घटना को दबाया जा रहा है। नीतीश कुमार जी जब भी कटघरे में होते हैं तो रणनीति के तहत चुप्पी साध लेते हैं।

 

JDU विधायक के बेटे पर गोली चलाने का आरोप

जेडीयू विधायक गोपाल मंडल के बेटे आशीष मंडल उर्फ टिंकू पर जमीन कब्जे को लेकर गोली चलाने का आरोप लगा है। फायरिंग और मारपीट की इस घटना में चार लोग जख्मी हुए हैं। जेडीयू  विधायक के बेटे पर जमीन पर कब्जे का आरोप लगा है। पीड़ित पक्ष का कहना है कि हमले से पहले उनके पास कॉल आया था। और कहा गया था कि अगर जमीन से नहीं हटोगे तो मारपीट होगी। फिर कुछ देर में ही 20 से 25 लोग प्लॉट पर पहुंच गए और लाठी-डंडों से हमला बोल दिया। इस दौरान विधायक पुत्र ने फायरिंग भी की। यही नहीं पीड़ित पक्ष ने विधायक गोपाल मंडल पर भी कॉल करके धमकी देने का आरोप लगाया है।

 

मामला बरारी थाना क्षेत्र में मुसहरी के पास 19 कट्ठा के प्लॉट पर अवैध कब्जे से जुड़ा है। वहीं मारपीट में जमीन के मालिक लाल बहादुर सिंह, उनकी पत्नी माधुरी, उनका बेटा वीर बहादुर और बेटे का दोस्त शरद उर्फ रवि जख्मी हो गए हैं। जिन्हें आनन-फानन में मायागंज स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस मामले पर जेडीयू विधायक गोपाल मंडल ने सफाई देते हुए कहा कि मारपीट का आरोप लगाने वाले खुद कई लोगों के साथ उस विवादित जमीन पर पहुंचे थे और बाउंड्री को तोड़ दिया था। जिसके बाद जमीन के स्वामी अपने समर्थकों के साथ पहुंचे।  जिसके बाद इस तरह की घटना हुई।और फिर इस तरह की घटना सामने आई।  फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई गई है।

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular