HomeBiharBihar weather: बिहार में कड़ाके की सर्दी, कोहरे के आगे विमान लाचार;...

Bihar weather: बिहार में कड़ाके की सर्दी, कोहरे के आगे विमान लाचार; ट्रेनें बेहाल, मौसम विभाग ने बताया- कब मिल

 

 

बिहार में सर्द मौसम और शीतलहर का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। तीव्र स्तर के शीतलहर के प्रभावों के बीच राज्य के 10 जिले कड़ाके की ठंड झेल रहे हैं। सोमवार को पटना में घना कोहरा रहा व आंशिक धूप निकली।

 

बिहार में सर्द मौसम और शीतलहर का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। तीव्र स्तर के शीतलहर के प्रभावों के बीच राज्य के 10 जिले कड़ाके की ठंड झेल रहे हैं। पटना में सोमवार को घने कोहरे के बीच चौथे दिन शीत दिवस की स्थिति बनी रही। गया, भागलपुर, पूर्णिया और दरभंगा तीन दिनों से ठंड से बेहाल हैं। पटना में घने कोहरे से दृश्यता सोमवार को मात्र 50 मीटर रही। पूर्णिया, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, सुपौल, फारबिसगंज और मोतिहारी में भीषण शीतदिवस की स्थिति बनी हुई है। भागलपुर और गया में शीत दिवस और शीतलहर दोनों स्थितियां रहीं जबकि पटना और छपरा में शीत दिवस बना हुआ है। इन शहरों में मंगलवार को भी यही स्थिति रह सकती है। 11 जनवरी तक राज्य भर में घने कोहरे और शीतलहर का कहीं औरंज अलर्ट तो कहीं शीत दिवस का येलो अलर्ट जारी किया गया है।

 

सोमवार को पटना में घना कोहरा रहा। आंशिक धूप निकली लेकिन अधिकतम तापमान मात्र 12.8 डिग्री दर्ज किया गया। पटना में इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। यहां के न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री गिरावट के साथ 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रविवार को पटना का न्यूनतम तापमान 7.9 डिग्री सेल्सियस था। बीते 24 घंटों के दौरान पटना के न्यूनतम तापमान में 1.7 डिग्री की गिरावट होने से लोग ठंड में दिन भर ठिठुरते रहे। प्रदेश के गया में सबसे कम न्यूनतम तापमान रहा। यहां न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम (3.7 डिग्री सेल्सियस) रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले दो दिनों तक मौसम में कोई विशेष बदलाव के आसार नहीं हैं। दो दिनों तक प्रदेश में ठंड व घना कोहरे का प्रभाव देखने को मिलेगा।

 

मौसम का कर्फ्यू: बसें बेबस, विमान लाचार, ट्रेनें बेहाल
मौसम की मौजूदा स्थिति से पटना सहित राज्य भर में यातायात सेवाएं बेपटरी हो गईं। बसें घने कोहरे के आगे बेबस रहीं और विलंब से गंतव्य तक पहुंची। पटना में सुबह आने वाली तेजस राजधानी एक्सप्रेस 11.30 घंटे की देरी से शाम चार बजकर 50 मिनट पर पहुंची। संपूर्ण क्रांति साढ़े दस घंटे की देरी से आई। देहरादून हावड़ा और हावड़ा देहरादून एक्सप्रेस को रद्द कर दिया गया।

 

पटना एयरपोर्ट पर विमानों के उतरने पर दोपहर 12 बजे तक ब्रेक लगा रहा। यहां रनवे पर मौसम के कर्फ्यू जैसी स्थिति रही। दोपहर 12 बजकर 14 मिनट पर विस्तारा का पहला विमान उतर सका। शेड्यूल में शामिल स्पाइस जेट की पहली फ्लाइट चार घंटे की देरी से आई। सोमवार को पटना के सभी विमान औसतन दो से तीन घंटे देर से आए। शाम में दिल्ली से पटना आनेवाली इंडिगो की फ्लाइट 6ई6383 को रद्द कर दिया गया।

 

अधिकतर शहरों का न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से नीचे  
प्रदेश में लगातार तीसरे दिन भी कई शहरों का न्यूनतम तापमान 10 डिग्री से नीचे रहा। पटना सहित प्रदेश गया, भागलपुर, पूर्णिया, वाल्मीकि नगर, मुजफ्फरपुर, सुपौल, फारबिसगंज, सबौर, डेहरी, मोतिहारी, शेखपुरा, सीतामढ़ी (पुपरी), औरंगाबाद, बांका, कटिहार, नवादा, जीरादेई, पूसा (समस्तीपुर), सहरसा (अगवानपुर), किशनगंज 10 डिग्री के नीचे रहा।

क्यों बढ़ी है ठंड
मौसम विभाग ने कहा कि सतह से छह किमी की ऊंचाई तक ठंड और घनी हवा का प्रवाह राज्य भर में जारी है। जिसकी वजह से पूरे राज्य में मध्यम से घना कोहरा छाया हुआ है। धूप नहीं निकल रही है और कनकनी युक्त हवाओं का प्रभाव पिछले एक हफ्ते से अधिक समय से बना हुआ है। वातावरण में शीतलहर को समर्थित करने वाले तत्वों की मौजूदगी होने की वजह से ठंड का प्रकोप बिहार में अधिक दिख रहा है। सोमवार को भागलपुर और फारबिसगंज में 25 मीटर, पटना में 50 मीटर, पूर्णिया में 70 मीटर, गया में 200 मीटर दर्ज की गई। हवाओं का प्रवाह सतह पर कम होने की वजह से घने कोहरे की स्थिति है। साथ ही विभिन्न शहरों की आर्द्रता भी 90 से ऊपर है।

 

कब तक मिलेगी राहत
मौसम विभाग के अनुसार 11 जनवरी की शाम तक मौसम में विशेष बदलाव के आसार नहीं दिख रहे हैं। 12 जनवरी को पूरे राज्य में तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी होगी। इससे पहले घना कोहरा की स्थिति रहेगी। 12 जनवरी से कोहरे की सघनता में भी कमी आएगी जिससे ठंड से आंशिक राहत मिलेगी। 11 जनवरी तक राज्य के दक्षिण मध्य और दक्षिण पश्चिम भाग में न्यूनतम तापमान छह से आठ डिग्री सेल्सियस जबकि दक्षिण पूर्व भाग और उत्तर बिहार में न्यूनतम तापमान आठ से दस डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 12 जनवरी से औसत दो डिग्री की बढ़ोतरी से ठंड में कमी आएगी। हालांकि 15 जनवरी तक राज्य में कहीं कहीं शीत दिवस और शीतलहर जैसे हालात बने रहने के आसार हैं।

 

पांच जनवरी 2018 की सर्दी का पटना में टूटा रिकॉर्ड
पांच वर्षों में यह पटना का सबसे कम अधिकतम तापमान है। इससे पहले पटना में पांच जनवरी को 12.9 डिग्री सेल्सियस, जबकि 11 जनवरी को 11.7 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान दर्ज किया गया। इससे पहले इसी साल चार और पांच जनवरी को पटना का अधिकतम तापमान 13.4 डिग्री दर्ज किया गया था।

मौसम विभाग ने विशेष बुलेटिन जारी कर सतर्कता बरतने के निर्देश
प्रचंड ठंड की स्थिति को देखते हुए मौसम विज्ञान केंद्र पटना ने सोमवार को विशेष बुलेटिन जारी कर लोगों को सतर्क और सचेत रहने की सलाह दी है। हवा का दबाव सामान्य से ऊंचे स्तर का बने होने से स्वास्थ्य पर इसका कुप्रभाव पड़ सकता है। इस स्थिति में हृदयाघात, ब्रेन स्ट्रोक और ब्रेन हेमरेज की घटनाएं बढ़ सकती है। छोटे बच्चों, मरीजों, बुजुर्गों को विशेष सतर्कता बरतने की नसीहत है। आम लोगों को बिना जरूरी घर से बाहर नहीं निकलने को कहा गया है। अगर बाहर निकलना हो तो कई लेयर में कपड़े पहनकर और गर्म कपड़ों का अधिकाधिक उपयोग को कहा गया है।

 

रेल, हवाई सेवा और पावर सेक्टर के लिये जारी किया सतर्कता संदेश
मौसम विभाग ने रेल सेवाओं और हवाई सेवाओं और पावर सेक्टर पर मौसम के प्रभावों को लेकर विशेष सतर्कता संदेश भी जारी किये हैं। अगले दो दिन हवाई अड्डों पर दृश्यता सौ से 1000 मीटर रहने का अनुमान किया है जिससे हवाई सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। खुले क्षेत्र में तापमान पांच डिग्री तक नीचे आने के कारण रेल की पटरियों में दरार पड़ने की संभावना है। साथ ही उच्च वोल्टेज पावर ट्रांसमिशन लाइन में ट्रिपिंग की संभावना बन सकती है।  किसी भी परिवहन के साधन के इस्तेमाल में सतर्कता बरतने की नसीहत है। वाहन चलाते समय फॉग लाइट के इस्तेमाल को कहा गया है।

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular