Breaking News

बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक करने वाले जल्द गिरफ्त में होंगे, नीतीश बोले-भविष्य के लिए बन रही ऱणनीति

 



मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक मामले में गड़बड़ करने वालों पर जल्द कार्रवाई होगी। हमने पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि जल्द-से-जल्द इसकी जांच कीजिए। इस पूरे मामले में बहुत एक्शन हो रहा है। जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद वे पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी कैसे प्रश्नपत्र लीक किया। इसे जिले को जो भेजा जाता है तो कहां से किस तरह से लीक हुआ है। इसकी पूरी जांच की जा रही है। कोई कैसे लीक किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि रविवार को जैसे ही मुझे जानाकारी मिली, हमने अफसरों से बात की। भविष्य में फिर ऐसी घटना नहीं हो, यह भी सुनिश्चित किया जाएगा।

बिहार साइबर क्रिमिनल का हब बनता जा रहा है? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि यहां पर एक-एक चीज को लेकर सतर्कता है। यहां पर कोई गड़बड़ करना चाहेगा तो उसे छोड़ा नहीं जाएगा। किसी भी चीज पर कार्रवाई तेजी से होती है। बिहार में बहुत हद तक शांति का माहौल रखा गया है। पत्रकारों के अन्य प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमलोग किसी जाति को अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति में मान्यता देने के लिए अपने यहां से प्रस्ताव भेजते हैं, जिस पर केंद्र सरकार के स्तर से निर्णय लिया जाता है।

बिहार में जातीय जनगणना पर कहा कि यहां सभी दल के लोग आपस में बातचीत कर लेंगे। कुछ राज्य इसे अपने-अपने ढंग से कर रहा है, लेकिन बिहार में जब होगा तो पूरे तौर पर होगा। उसके लिए सब पार्टी की मीटिंग होगी तो आपस में चर्चा होगी। सरकार में इन सब चीजों को लेकर पहले से ही तैयारी है। 

विशेष राज्य का दर्जा मिलने से बिहार का और तेजी से विकास होगा

बिहार को लेकर नीति आयोग की रिपोर्ट के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जब नीति आयोग की रिपोर्ट सामने आई थी तो उसका जवाब हमलोगों ने भेज दिया था। बिहार का काफी तेजी से विकास हो रहा है। हमलोगों के इतना काम काम करने के बावजूद भी अगर आप पूरे देश को ओवरऑल देखियेगा तो बिहार पीछे है ही, इसमें कोई शक नहीं है। बिहार का क्षेत्रफल कम है, लेकिन आबादी काफी ज्यादा है।

प्रजनन दर को घटाने के लिए हमलोग महिलाओं को पढ़ाने में लगे हैं। बिहार में काफी विकास हुआ है। आजकल बाहर से आने वाला व्यक्ति बिहार आकर देखता है कि बिहार में कितना एलिवेटेड रोड, ब्रिज एवं सड़कें बनी हुई हैं। इन सब चीजों को देखकर सभी लोग इसकी प्रशंसा करते हैं। इसको लेकर हमलोग काफी समय से यह मांग कर रहे हैं कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलना चाहिए। विशेष राज्य का दर्जा मिलने से बिहार का और तेजी से विकास होगा। 2005 के पहले बिहार में शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था की क्या हालत थी, किसी के छुपा नहीं है। हमलोगों ने इन क्षेत्रों में भी व्यापक स्तर पर काम किया। 

पेट्रोल-डीजल पर केंद्र टैक्स कम करेगा तो राज्य भी करेगा 

बढ़ती महंगाई को देखते हुए जनता को और राहत देने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जितना राहत देना संभव है, वह सब किया जायेगा। पेट्रोल-डीजल पर पिछली बार जब केंद्र सरकार ने वैट की दरों में कमी की तो उस समय ही बिहार में भी वैट की दरों में कमी की गई। आगे भी अगर केंद्र सरकार टैक्स कम करने का फैसला लेती है तो राज्य सरकार भी उसे करेगी। अभी पेट्रोल-डीजल की कीमतें काफी बढ़ गई हैं, लेकिन कई हफ्तों से कीमतें स्थिर हैं। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा होने के कई कारण हैं। भारत में पेट्रोल-डीजल बाहर से आता है। जब बाहर से महंगा पेट्रोल-डीजल आयेगा तो उसका असर तो यहां भी पड़ेगा। इन सब चीजों पर राज्य सरकार की नजर है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में आपदा की स्थिति को लेकर भी राज्य सरकार अभी से सतर्क है। चार महीने हमलोगों का ध्यान उसी पर केंद्रित रहता है। इसको लेकर भी कुछ दिनों के बाद आपदा प्रबंधन की तैयारी को लेकर बैठक की जायेगी। 

कोरोना का दौर खत्म होने पर सीएए पर बात 
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के बयान पर पूछे गये सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि तीन देशों के जो अल्पसंख्यक यहां पर हैं, इसके लिए कानून लागू करने की बात उन्होंने कही है। ये तो केंद्र सरकार को ही देखना है। कोरोना के चलते बंद हो गया। और तो कोई वैसी बात उसमें नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसमें किसी के माता-पिता का जन्मदिन बताने के लिए बात है तो यह पुराने लोगों को कैसे मालूम होगा? पहले इसकी परंपरा नहीं थी। राज्य सरकार की ओर से बहुत पहले केंद्र सरकार को लिखकर भेज दिया है कि यह नहीं होना चाहिए। जो 2010 का प्रावधान था, उसी के हिसाब से चलाइएगा। 
 
धर्मेंद्र प्रधान से बिल्कुल निजी बात

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मुख्यमंत्री से पिछले दिनों पटना में हुई मुलाकात पर उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल निजी बातचीत थी। हमलोगों का बहुत पुराना संबंध है। ऐसे ही गपशप होता है। शिक्षा के क्षेत्र में भी उनसे चर्चा हुई तो हमने यहां के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी को भी बुलवाया। कोई ऐसी बात नहीं है। इस मुलाकात का कोई अर्थ लगाने की जरूरत नहीं है। कोई खास चीज जानने के लिए वे आये थे, ऐसा नहीं है।

  

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर (SUBHAKAR MEDIA PRIVATE LIMITED) वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।