Breaking News

सिर्फ 16 करोड़ का एक इंजेक्शन बचा सकता है 10 महीने के अयांश की जान, मां ने पीएम से लगाई गुहार


आलोक और नेहा के बेटे अयांश को दुर्लभ बीमारी है. इसका इलाज सिर्फ एक इंजेक्शन है. लेकिन सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात ये है कि यह कोई आम इंजेक्शन नहीं है. इस इंजेक्शन का नाम ZOLGENSMA है और इसकी कीमत 16 करोड़ रुपए है.

मदद के लिए

Google Pay --  9431089721 

  • 2 महीने की उम्र से इस बीमारी से जूझ रहा अयांश
  • बच्चे के इलाज के लिए सोशल मीडिया पर कैंपेन चला रहे परिजन

पटना के रहने वाले आलोक और नेहा ने अपने बेटे अयांश (Ayansh) के इलाज के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm narendra modi) और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Cm nitish kumar) से मदद की गुहार लगाई है. नेहा का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी सबकी मदद करते हैं और मैं भी उनसे मदद की गुहार लगा रही हूं ताकि मेरे बच्चे की जिंदगी बच सके. 



आलोक और नेहा के बेटे अयांश को दुर्लभ बीमारी है. इसका इलाज सिर्फ एक इंजेक्शन है. लेकिन सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात ये है कि यह कोई आम इंजेक्शन नहीं है. इस इंजेक्शन का नाम ZOLGENSMA है और इसकी कीमत 16 करोड़ रुपए है.  

पैदा होने के 2 महीने बाद बिगड़ने लगी थी तबीयत

आजतक ने अयांश के माता पिता से खास बातचीत की और यह जानने की कोशिश की कि अयांश किस बीमारी से ग्रसित हैं और इसका इलाज क्या है. इस पर आलोक ने बताया कि बेटे अयांश की तबीतय पैदा होने के 2 महीने बाद ही बिगड़ने लगी थी. लेकिन उन्हें 15 दिन तक यह अंदाजा नहीं था कि अयांश किस घातक बीमारी से जूझ रहा है. 



बेंगलुरु में पता चली बीमारी

पटना में कई डॉक्टरों को दिखाने के बाद आखिरकार अयांश को उसके माता-पिता बेंगलुरु के NIMHANS लेकर पहुंचें. यहां पांच डॉक्टरों की टीम ने अयांश की जांच की और फिर जिस गंभीर बीमारी का पता चला. वह जानकर अयांश के माता-पिता के साथ-साथ डॉक्टर भी चकित रह गए. 

आलोक ने बताया कि बेंगलुरु में इलाज के दौरान उन्हें पता चला कि अयांश को स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी (Spinal Muscular Atrophy Type-1) नाम की दुर्लभ बीमारी है. ऐसे बच्चे सिर्फ 18 महीने से 2 साल तक जिंदा रहते हैं. इस बीमारी में मरीज का मांस धीरे धीरे जलने लगता है. 

इलाज सुन पैरों तले जमीन खिसक गई 

आलोक कुमार के मुताबिक, जब बेंगलुरु के डॉक्टरों ने इस बीमारी का इलाज बताया तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई. डॉक्टरों ने बताया कि केवल एक इंजेक्शन जिसकी कीमत ₹16 करोड़ है, उससे ही अयांस की जान बच सकती है. डॉक्टरों ने बताया कि यह इंजेक्शन केवल अमेरिका में ही बनता है, ऐसे में यह इंजेक्शन वहीं से मंगवाना पड़ेगा. 

लोगों से मांग रहे मदद 

नेहा ने बताया कि 16 करोड़ की रकम हमारे लिए बहुत बड़ी है. हम लोग इस रकम को इकट्ठा करने के लिए लोगों की मदद मांग रहे हैं और हमें लोगों की मदद मिलती रही है मगर फिर भी 16 करोड़ की राशि इकट्ठा करना मुश्किल है. अयांश के परिवार ने इलाज के पैसे जुटाने के लिए सोशल मीडिया पर कैंपेन भी शुरू किया है. परिवार वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मदद की लगातार गुहार लगा रहे हैं

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर (SUBHAKAR MEDIA PRIVATE LIMITED) वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।