Breaking News

विदेश से बिहार लौटे युवक ने थाने में प्रेमिका की भरी मांग, लिए सात फेरे, साक्षी बनें पुलिसकर्मी

 



बिहार के गोपालगंज में शनिवार की रात भोरे थाना परिसर में स्थित भगवान विष्णु की मूर्ति को साक्षी मानकर हुई शादी के बाद प्रेमी जोड़े एक-दूजे के हो गए। यह शादी पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है। 

बताया जाता है कि थाने के खजुरहा गांव के रामअशीष प्रसाद के पुत्र आनंद कुमार का प्रेम-प्रसंग इमिलिया गांव के मुन्ना मांझी की पुत्री संजना कुमारी से दो वर्षों से चला आ रहा था। आनंद कुमार की बहन की शादी इमिलिया गांव में हुई है। अपनी बहन के घर आने-जाने के क्रम में ही पड़ोस की संजना से उसका परिचय हो गया। और बात करते-करते यह परिचय प्रेम-प्रसंग में तब्दील हो गया। लेकिन कुछ दिन बाद ही आनंद रोजी-रोटी के सिलसिले में विदेश चला गया। उसके विदेश में रहने के दौरान भी दोनों में मोबाइल से बातचीत होती रही और दोनों का प्रेम परवान चढ़ता गया। इसी बीच आनन्द विदेश से वापस आ गया।

विदेश से लौटने पर उसने प्रेमिका से शादी करने की इच्छा जाहिर की तो वह सहर्ष तैयार हो गई। लेकिन दोनों के परिजन शादी के लिए तैयार नहीं थे। ऐसे में शनिवार को दोनों अचानक भोरे थाना पहुंच कर थानाध्यक्ष के सामने अपनी मर्जी से शादी करने का प्रस्ताव रखा। उम्र के सत्यापन में दोनों के बालिग मिलने पर थानाध्यक्ष ने दोनों के परिजनों को थाने पर बुलाकर उन्हें प्रेमी जोड़े के प्रेम संबंध के बारे में बताया। काफी समझाने-बुझाने पर दोनों के परिजन शादी के लिए तैयार हो गए और थाना परिसर में ही स्थित भगवान विष्णु की प्रतिमा को साक्षी मानकर शादी के सात फेरे लिए।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर (SUBHAKAR MEDIA PRIVATE LIMITED) वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।