Breaking News

पटना के बांस घाट पर होगा सिर्फ कोरोना से मृत व्यक्तियों का अंतिम संस्कार, नगर निगम ने बंगाल, सिक्किम से मंगाई लकड़ियां

 


बिहार की राजधानी पटना के बांसघाट 14 गृह में अब सिर्फ कोरोना वायरस से मृत लोगों का ही दाह संस्कार होगा। कोरोना महामारी के कारण मृतकों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने यह व्यवस्था की है। उन्होंने तत्काल प्रभाव से पटना सिटी वार्ड संख्या 70 में नंदगोला घाट पर अंत्येष्टि के लिए व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उक्त घाट पर लकड़ी से दाह संस्कार किया जाएगा। इस घाट पर भी कोरोना मृतकों के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पटना नगर निगम द्वारा नि:शुल्क की जाएगी।

नंदगोला घाट पर भी प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे, मे आई हेल्प यू डेस्क, कंट्रोल रूम आदि की व्यवस्था की जाएगी। साथ ही कोरोना से मृत लोगों के अंतिम संस्कार हेतु पटना नगर निगम द्वारा की गई व्यवस्थाओं की जानकारी माइक के माध्यम से भी प्रसारित की जाएंगी। बांस घाट पर मात्र कोरोना संक्रमण से मृत व्यक्तियों का अंतिम संस्कार होगा। वहीं गुलबी घाट, खाजेकलां घाट एवं नंदगोला घाट पर कोविड एवं अन्य परिस्थितियों में मृत व्यक्तियों की भी अंत्येष्टि की व्यवस्था की जाएगी।

बंगाल, सिक्किम से मंगाई लकड़ियां
पटना नगर निगम द्वारा सभी घाटों पर कोविड मृत व्यक्तियों की अंत्येष्टि नि:शुल्क करायी जा रही है। इसके लिए सिक्किम, सिलिगुड़ी एवं कोलकाता से लकड़ियां मंगाई गई हैं। अभी तक गुलबी घाट पर 20 टन एवं खाजेकलां घाट पर 250 टन लकड़ी की व्यवस्था की गई है। वहीं, 50 टन लकड़ी मंगलवार तक घाट पर पहुंचेगी। कोरोना के दौरान अंत्येष्टि घाटों पर बढ़ते दबाव को नियंत्रित करने के लिए पटना नगर निगम द्वारा घाटों की संख्या बढ़ायी जा रही है। साथ ही कोविड मृतक के परिजनों से अपील भी की जा रही है कि वे पार्थिव शरीर को घाट पर लेकर पहुंचने से पहले संबंधित घाट के कंट्रोल रूम में कॉल कर दाह संस्कार हेतु पहले ही समय निर्धारित करवा लें एवं कंट्रोल रूम द्वारा बताए समय पर पहुंच कर कम से कम अवधि में अंत्येष्टि की प्रक्रिया पूर्ण करने में सहयोग करें

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।