Breaking News

बारात निकलने से पहले ही उठी दूल्हे की अर्थी, 28 अप्रैल को चढ़ा था तिलक, दो मई को जानी थी बारात

 



सच ही कहा जाता है कि कब किसके साथ कौन सी अनहोनी हो जाये, कोई नहीं जानता। यह भी कोई जरूरी नहीं कि बड़े हादसे ही लोगों की जान लेते  हैं, बल्कि संयोग अच्छा नहीं हो तो छोटी दुर्घटना भी जान ले लेती है। भोजपुर के उदवंतनगर थाना क्षेत्र के स्थानीय उदवंतनगर गांव के रहने वाले गोरख सिंह के 23 वर्षीय पुत्र अमित कुमार उर्फ चुन्नु के साथ कुछ ऐसा ही हुआ है। उसकी शादी होने वाली थी। 

बीते 28 अप्रैल को उसका तिलक समारोह हुआ था और शुक्रवार को हल्दी की रस्म भी पूरी कर ली गई थी। दो मई को कोईलवर के सुंदरा गांव बारात जाने वाली थी, लेकिन होनी को कौन टाल सकता है। शुक्रवार की रात खाना खाने के बाद अमित अपने घर में चौकी पर सोया था। रात में अचानक वह चौकी से निचे गिर गया। इसमें उसके सिर में चोट लग गई। इलाज के लिए आरा से पटना जाना पड़ गया। 

लेकिन छोटी सी दुर्घटना ने चुन्नु की जान ले ली। उसकी मौत शनिवार को इलाज के दौरान पटना में हो गई। मौत की खबर से घर में कोहराम मच गया। गांव व ससुराल में सनसनी फैल गई। मृतक चुन्नु अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। उसके पिता गोरख सिंह अपने गांव में ही किराना की छोटी सी दुकान चलाते हैं। 

बड़ी बहन की शादी पहले ही हो गई है। शव का अंतिम संस्कार आरा के गांगी घाट पर किया गया। मां व बहन सहित अन्य परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है। उधर, सुंदरा गांव स्थित लड़की पक्ष में भी मातम का माहौल है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।