Breaking News

रेलवे ट्रैक पर टावर वैगन में अचानक लगी आग, लपटों को देखकर जुटे आसपास के गांववाले

 


दानापुर रेल मंडल का एक प्रमुख पटना- गया रेलखंड के जहानाबाद रेल थाना अंतर्गत धरनई हॉल्ट और बेला स्टेशन के बीच पाली गांव के समीप डाउन लाइन पर शनिवार की शाम करीब पांच बजे ओवरहेड वायर (ओएचई) को मरम्मत करने वाली टावर वैगन में अचानक आग लग गई। अगलगी की घटना से अफरा- तफरी का माहौल कायम हो गया। 

टावर वैगन के चालक और उस पर सवार अन्य कामगार गाड़ी रोक कर उतरकर अपनी जान बचायी। आग की लपटें इतनी तेज थी कि उस पर काबू पाना मुश्किल था। आग देखकर आसपास के गांव से बड़ी संख्या में लोग वहां जुट गए। लोगों ने पानी से आग बुझाने की कोशिश की लेकिन पर्याप्त पानी उपलब्ध नहीं होने के कारण आग ने रौद्र रूप धारण कर लिया और टावर वैगन पूरी तरह जलकर नष्ट हो गया। 

सूचना पाकर बेला से एक छोटा दमकल वहां पहुंचा लेकिन रास्ते के अभाव के कारण पहुंचने में विलंब हुआ तब तक आग अपना काम तमाम कर दिया था। डाउन लाइन पर हुई अगलगी की। इस घटना के बाद अप और डाउन लाइन के ओवरहेड वायर की बिजली की आपूर्ति घंटों बंद कर दी गई थी। तकरीबन दो घंटे के बाद अप लाइन पर बिजली की आपूर्ति चालू की गई।

सूचना पाकर जहानाबाद से रेल पुलिस और रेलवे के अन्य कामगार घटनास्थल पर पहुंचे। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। जहानाबाद के स्टेशन प्रबंधक जितेंद्र कुमार ने देर शाम साढ़े सात बजे बताया कि आग पर काबू पा लिया गया है और तकरीबन दो घंटे के बाद अप लाइन के ओवरहेड वायर (जिससे बिजली प्रवाहित ट्रेन चलती है) की विद्युत आपूर्ति चालू कर दी गई है।

खबर के अनुसार जहानाबाद रेलवे स्टेशन के पीआरडी ऑफिस के पास से अन्य दिनों की भांति सुबह करीब 10 बजे टावर वैगन अप और डाउन लाइन के ओवरहेड तार की मरम्मत या जांच के लिए निकली थी। बताया गया है कि चाकंद स्टेशन तक उक्त टावर वैगन जाती है और फिर वहां से जहानाबाद लौट जाती है। 

पेट्रोलिंग कर डाउन लाइन से टावर वैगन वापस जहानाबाद की ओर आ रही थी। उसी दौरान बेला और धरनई के बीच पाली गांव के समीप डीजल से संचालित टावर वैगन के निचले भाग में आग लग गई। देखते ही देखते पहले धुआं फैल गया। ड्राइवर और उस पर सवार अन्य कर्मी उसे रोककर उतर गए। आग ने रौद्र रूप धारण कर लिया। आसपास के लोग वहां जुटे लेकिन तब तक काफी क्षति हो चुकी थी। 

सूचना पाकर जहानाबाद से रेलवे कर्मी घटनास्थल पर पहुंचे। उधर बेला बाजार से एक छोटा दमकल भी आया। बताया गया है कि घटना के बाद अप और डाउन दोनों लाइन की बिजली आपूर्ति बंद कर दी गई। उस वक्त किसी ट्रेन के परिचालन का भी समय नहीं था। तकरीबन दो घंटे बाद अप लाइन पर ओवरहेड वायर की बिजली आपूर्ति चालू की गई। पटना से टेक्नीशियन के साथ एक टावर वैगन को घटनास्थल भेजा गया है। उधर गया की ओर से भी बेला स्टेशन पर एक टावर बैगन को लाया गया है। 

अनुमान लगाया जा रहा है कि आग से बर्बाद हुए टावर वैगन को खींच कर बेला स्टेशन या फिर जहानाबाद लाया जाएगा और उसके बाद रात में ही डाउन लाइन पर भी ट्रेनों का परिचालन शुरू करा दिया जाएगा। आग लगने के कारण का पता लगाया जा रहा है। वैसे अनुमान लगाया जा रहा है कि भीषण गर्मी की वजह से डीजल संचालित टावर वैगन में अगलगी की घटना हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।