Breaking News

CBSE पटना जोन कक्षा 10 के 2.75 लाख विद्यार्थी बिना परीक्षा होंगे पास

 


सीबीएसई के पटना जोन के दो लाख 75 हजार परीक्षार्थी बिना बोर्ड परीक्षा दिए ही पास करेंगे। इसमें बिहार के एक लाख 70 हजार और झारखंड के 95 हजार परीक्षार्थी शामिल हैं। सीबीएसई के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब बिना परीक्षा के ही विद्यार्थी को रिजल्ट मिलेगा। कोरोना के मामले काफी बढ़ने के बाद बोर्ड द्वारा यह फैसला लिया गया है। ज्ञात हो कि दसवीं बोर्ड परीक्षा चार मई से सात जून तक निर्धारित थी, लेकिन अब परीक्षा नहीं ली जाएगी। बोर्ड रिजल्ट की तैयारी में जुट गया है। सभी स्कूलों से उनके साल भर की परीक्षाओं की रिपोर्ट मांगी जाएगी। इस काम को बोर्ड द्वारा तीन से चार दिनों में कर लिया जाएगा। इसके बाद बोर्ड द्वारा बीच का रास्ता निकाल कर रिजल्ट तैयार किया जाएगा। बोर्ड सूत्रों की मानें तो मई के पहले सप्ताह में दसवीं बोर्ड रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा। इस रिजल्ट के आधार पर विद्यार्थी 11वीं में नामांकन ले पाएंगे।

बोर्ड की मानें तो पहली बार 2021 के दसवीं बोर्ड परीक्षा में हर विषय में बोर्ड ने 20 अंक का इंटरनल असेसमेंट जोड़ा था। यानी सौ अंक की परीक्षा में 80 अंक की सैद्धांतिक परीक्षा होना था और 20 अंक का आंतरिक मूल्यांकन होना था। इस आंतरिक मूल्यांकन स्कूल द्वारा पूरे साल करवाना था। इसमें स्कूल द्वारा मिड टर्म, अर्द्धवार्षिक परीक्षा, यूनिट टेस्ट आदि के माध्यम से किया जाता है। ये 20 अंक का आंतरिक मूल्यांकन सभी स्कूलों द्वारा बोर्ड के पास भेजा जा चुका है। इसे बोर्ड ने फरवरी से मार्च तक सभी स्कूलों को अपलोड करने को कहा था। सभी स्कूल आंतरिक मूल्यांकन के अंक बोर्ड को भेज चुका है। सभी स्कूलों द्वारा प्री बोर्ड लिया गया है। इस कारण बोर्ड द्वारा प्री बोर्ड रिजल्ट भी स्कूलों से मांगा जाएगा।

बिना मेरिट लिस्ट के जारी हुआ था 2020 का रिजल्ट
सीबीएसई बोर्ड परीक्षा पर कोरोना संक्रमण का असर 2020 में भी रहा। 2020 में बोर्ड ने दसवीं का रिजल्ट बिना मेरिट लिस्ट के जारी किया था। कोरोना के कारण कई विषयों की परीक्षा नहीं ली जा सकी थी। इस कारण बोर्ड द्वारा बेस्ट तीन विषय के अंक के आधार पर रिजल्ट जारी किया। इस कारण मेरिट लिस्ट जारी नहीं हुआ था।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।