Breaking News

Breaking News Earthquake in Bihar: कोसी-सीमांचल में भूकंप के झटके, पटना में भी लोगों ने महसूस किया, पीएम मोदी ने सीएम नीतीश से की बात

 


नेपाल-भूटान सीमा पर सिक्किम के पास जमीन के 10 किमी नीचे आए जलजले का असर पटना सहित बिहार के कई जिलों में देखा गया। खासकर सीमांचल के इलाके में लोगों ने तेज झटके महसूस किए। भागलपुर, पूर्णिया, कटिहार, किशनगंज व मधेपुरा में लोग घरों से बाहर आ गए। भूकंप के झटके महसूस किए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री को फोन कर स्थिति की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने बताया कि आपदा प्रबंधन विभाग को लगातार सचेत एवं सतर्क रहने और स्थिति पर लगातार निगरानी रखने का निर्देश दिया गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र पटना के निदेशक विवेक सिन्हा ने बताया कि रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 5.4 थी। रात आठ बजकर 49 मिनट पर तीन से चार सेकेंड के लिए लोगों ने धरती का डगमगाना महसूस किया। हालांकि भूकंप की तीव्रता कम होने से कहीं भी जानमाल के नुकसान की सूचना नहीं है। पटना में इसका आंशिक असर देखा गया। पटना के बेली रोड, बोरिंग रोड, आशियाना समेत मोहल्लो में लोग घरों से बाहर दिखे। देर रात तक लोग टीवी और मोबाइल पर लोग चिपके रहे और परिजनों का कुशल क्षेम पूछते रहे। 

इस साल दूसरी बार आया जलजला
बिहार के लोगों ने इस साल दूसरी बार भूकंप के झटके महसूस किए हैं। इससे पहले 15 फरवरी को बिहार में भूकंप का झटका महसूस किया गया था। तब पटना सहित कई जिलों में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। नेशनल सेंटर पर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक भूकंप का केंद्र तब नालंदा से 20 किमी दूर था। पटना के लोग देर रात तक इसी बात की चर्चा करते रहे कि पिछली बार भी सोमवार के दिन ही भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

भूकंप से हुई क्षति का अविलंब आकलन कराएं : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को देर शाम बिहार के कई इलाकों में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए जाने के बाद आपदा प्रबंधन विभाग और सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वह अपने क्षेत्र में भूकंप से किसी प्रकार की हुई क्षति का अविलंब आकलन करा लें और स्थिति की लगातार  मॉनिटरिंग करें। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को  यह भी निर्देश दिया कि लोगों को सतर्क एवं सचेत रहने के लिए भी समुचित करवाई सुनिश्चित करें।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।