Breaking News

बक्सर :- बेटे की मौत पर बेसुध हुई मां, गांव में पसर गया मातम

 


डुमरांव।जवान बेटे की मौत की खबर मिलते ही मां लैला खातून बेसुध हो गयी। टोले की महिलाएं उसे ढाढस दे रही थी। लेकिन, बेटे की मौत के सदमे से लैला के आंखों के आंसू सूख गये थे। लैला के आंखों में आंसू नहीं थे। बस खामोश रहकर सबकुछ देख रही थी। एक साथ दो युवको की मौत की खबर आते ही नया भोजपुर में मातम पसर गया था। मातमपुर्सी को पहुंच रहे लोगों के चेहरे पर मौत का दुख और जुबान से एक ही शब्द फूट रहे थे-ईश्वर किसी को ऐसा दु:ख नसीब नहीं करे।

शादी में शामिल होने जा रहे थे डुमरी

शौहर सतार अंसारी की मौत के बाद लैला खातून बेटों के साथ दिन गुजार रही थी। एक बड़े बेटे की पहले मौत हो गयी थी। दुख भरे जीवन में खुशी के कुछ पल पाने के लिए लैला अपने ननिहाल डुमरी में आयोजित एक समारोह में शामिल होने गयी थी। डुमरी गांव स्थित जहीर के घर शादी समारोह चल रहा था।लैला खातून का पुत्र मजीद अंसारी अपने दोस्त सुरेंद्र तुरहा के साथ रात्रि समय अपाची बाइक से डुमरी के लिए निकल गया ।रामपुर मठिया के समीप दुघर्टना में दोनों जख्मी हो गए।

चीखते रहे जख्मी नहीं मिली मदद

अज्ञात वाहन से टक्कर के बाद दोनों जख्मी हो गये। देर रात दोनों मदद के लिए चिल्लाते रहे। लेकिन सन्नाटे में कोई उनकी चीख नहीं सुन सका। रात्रि समय गुजर रहा एक राहगीर मजीद की चीख सुन पहुंचा और मोबाइल पर मजीद के घर खबर किया। जब तक परिवार के लोग मौके पर पहुंचे,तब तक दोनों के प्राण पखेरु उड़ चुके थे। देर रात्रि परिजन दोनों का शव लेकर गांव पहुंचे। सुबह आंख खुलते ही लोगों को दो युवकों के मौत की मनहूस खबर मिली। एक साथ दो युवकों की मौत से गांव मातम पसर गया।

बिखर गया परिवार का अरमान

दोनों युवक परिवार के लिए एक उम्मीद बनकर उभर रहे थे। मजीद वाहन चलाने का काम कर रहा था। जबकि सुरेंद्र बाहर रहकर परिवार को आर्थिक सहयोग कर रहा था। गांव के सुभान अंसारी ने कहा कि दोनों युवकों से परिवार को काफी उम्मीदे थीं। लेकिन.मौत के साथ परिवार का सपना बिखर गया। गांव के इरफान कुरैशी ने बताया कि दो युवकों की मौत से गांव सदमे में डूब गया है। इधर मौत की खबर आते ही डुमरी स्थित घर में शादी की खुशी गम में तब्दील हो गयी।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।