Breaking News

जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग एवं आईसीडीएस की मासिक समीक्षात्मक बैठक आयोजित



-बैठक में स्वास्थ्य विभाग एवं सामेकित बाल विकास कार्यक्रम के सभी कार्यक्रम की समीक्षा की गई  


-जिले में कुल 69 संक्रमित व्यक्ति, अन्य प्रदेश से आने वाले सभी व्यक्तियों की जांच आवश्यक   


-संक्रमण के समय भी स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाने की कवायद   


किशनगंज, 08 मार्च।

जिले में स्वास्थ्य विभाग मरीजों को गुणवत्तापूर्ण तथा सुलभ स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए निरंतर प्रयासरत है। स्वाथ्य विभाग के तमाम अधिकारी एवं कर्मचारियों के साथ हीं नर्स, पारा मेडिकल स्टाफ, आशा, आदि स्वास्थ्य सुविधा बेहतर बनाने के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। शहर के रचना भवन के सभागार में गुरुवार  को जिला पदाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग एवं सामेकित बाल विकास कार्यक्रम की समीक्षात्मक बैठक आयोजित की गई।  


बैठक में  सिविल सर्जन डॉ श्रीनंदन ने कहा प्रखंडवार  टीकाकरण, मातृत्व स्वस्थ्य, शिशु स्वास्थ्य परिवार कल्याण, किशोर-किशोरी कार्यक्रम, वेक्टर जनित रोग, टीबी नियत्रंण, अंधापन, गैर संचारी रोग, एएनसी जांच, टीकाकरण, संस्थागत प्रसव,अस्पताल में प्रसव से जुड़ी सेवाओं को सुदृढ़ करने का प्रयास किया जा रहा है तथा जिले में स्वास्थ्य विभाग की ओर से चलाई जा रही विभिन्न प्रकार की योजनाओं का लाभ जरूरतमंद लोगों को हर हाल में मिलना चाहिए। उन्होंने बताया इसी क्रम में सदर अस्पताल में डायलिसिस यूनिट, डिजिटल एक्सरे, अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस ब्लड बैंक, डिलीवरी रूम , सिटी स्कैन की सुविधा दी जा रही है। जिससे आम लोगों  को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है।



सामेकित बाल विकास परियोजना की समीक्षा:

सामेकित बाल विकास परियोजना की समीक्षा में जिला पदाधिकारी द्वारा सेविका सहायिका चयन एवं क्रियाशील आंगनबाड़ी केंद्रों की अद्यतन स्थिति, टोकन प्रणाली से पोषाहार/ टी एच आर वितरण की अद्यतन स्थिति, होम विजिट के माध्यम से आंगनबाड़ी क्षेत्र का निरीक्षण, मनरेगा एवं आईसीडीएस के अभिसरण से भवन निर्माण, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना, पोषण अभियान, सजन अभियान, न्यायालयवाद की गहन समीक्षा उपरांत जिला पदाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि आईसीडीएस द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओं के क्रियान्वयन एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों में ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस का आयोजन तथा गृह भ्रमण (होम विजिट) के माध्यम से 100 प्रतिशत सुनिश्चित करने एवं योजनाओं का लाभ लाभुकों तक अनिवार्य रूप से पहुँचाने में इसकी पूर्ण जिम्मेवारी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, महिला पर्यवेक्षिका एवं संबंधित सेविका की होगी। प्रत्येक माह टी० एच० आर०/पोषाहार वितरण के लिए निर्धारित तिथि से पूर्व व ससमय राशि की निकासी कोषागार से करना सुनिश्चित करेंगे ताकि विभाग द्वारा निर्धारित तिथि में होम विजिट के माध्यम से टी० एच० आर०/ पोषाहार का लाभ लाभुकों को उपलब्ध कराया जा सके। जिलाधिकारी ने जिले में कोविड-19 के दूसरे डोज के टीकाकरण की प्रगति पर असंतोष व्यक्त किया। उन्होंने कोविड-19 टीकाकरण के दूसरे डोज की प्रगति में तेजी लाने का निर्देश दिया। उन्होंने जिले में प्रतिदिन 8920 योग्य व्यक्ति के टीकाकरण कराने के लक्ष्य के अनुसार सभी सत्र स्थलों पर कार्य करने का निदेश स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य पदाधिकारियों को दिया।



जिले में कुल 69 संक्रमित व्यक्ति है अन्य प्रदेश से आने वाले सभी व्यक्तियों की जांच आवश्यक:

सिविल सर्जन् डॉ श्रीनंदन ने बताया 4493 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। जिसमे अब तक 4408 लोग पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। जिले की रिकवरी रेट अभी भी 98.1% है। जिले में अबतक संक्रमण की वजह से कुल 16 लोगों की मृत्यु हुयी है। उन्होंने जिले में बाहर से आये सभी व्यक्तियों का जांच आवश्यक रूप से करने की प्रतिबद्धता को दुहराया। वहीं उन्होंने कहा जिले में प्रतिदिन 1300 से ज्यादा लोगो की जांच हो रही है। उन्होंने उपस्थित आई.सी.डी.एस. के परियोजना पदाधिकारी को आंगनबाड़ी सेविकाओं एवं सहायिकाओं को दूसरा डोज का टीका यथाशीघ्र सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिया। उन्होंने बताया वर्तमान में जिले में कुल 48712 लोगो को प्रथम डोज एवं 9686  व्यक्ति को  दूसरा डोज लगाया गया हैं।



संक्रमण के समय भी स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाना हमारा कर्तव्य:

जिले में स्वास्थ्य सुविधा को सुचारु रूप से क्रियान्वयन करने हेतु सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने कहा संक्रमण के दौर में अन्य स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाना सभी का कर्तव्य है. इसलिए सभी स्वास्थ्य कर्मी को इस दिशा में गंभीर रहने की जरूरत है। बैठक में सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन, डॉ कौशल किशोर, अस्पताल,जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मंजूर आलम, जिला कार्यक्रम प्रबंन्धक डॉ. मुनाज़िम, जिला समन्वयक विश्वजीत कुमार , इपिडेमियोलॉजिस्ट रीना प्रवीण, यूनिसेफ के एसएमसी एजाज अफजल, डब्लूएचओ के एसएमओ डॉ.अमित कुमार,केयर के प्रशुनजीत प्रमाणिक, सी-फार के जिला समन्वयक, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, सभी सामेकित बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, सभी महिला पर्यवेक्षिका ,प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंन्धक, लेखापाल आदि उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।