Breaking News

कोरोना टीकाकरण की जवाबदेही बीडीओ की

 



मोतिहारी। जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक ने वीडियो काफ्रेंसिग के माध्यम से सभी अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं प्रखंड के सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि 45 वर्ष से अधिक आयु वाले जिला के सभी लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए टीका लगवाएं। प्रखंड स्तर पर लाभार्थियों को जागरुक करने की समुचित जवाबदेही प्रखंड विकास पदाधिकारी की होगी। इसके लिए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक तथा पंचायती राज प्रतिनिधिगण समन्वय एवं सहयोग प्रदान करेंगे। डीएम ने कहा कि प्रखंड स्तरीय सभी पदाधिकारी, पर्यवेक्षकीय स्तर के पदाधिकारी, मनरेगा के कार्यक्रम पदाधिकारी को टीकाकरण अभियान में लगाया जाए एवं प्रतिदिन इनके कार्यों का अनुश्रवण करें।

 प्रति पंचायत कम से कम 100 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य

जिलाधिकारी ने कहा कि 45 वर्ष से अधिक का आयु वाले जो नया वर्ग है उसमें शिक्षक, उनके परिवार के सदस्य, स्कूल जाने वाले बच्चों के अभिभावकों, जीविका दीदी एवं उनके परिवार के सदस्यों को लक्षित कर टीकाकरण के कार्य में तेजी लाई जाए। प्रति पंचायत कम से कम 100 तथा शहरी क्षेत्रों मे प्रति वार्ड कम से कम 50 लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य दिया गया। डीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री वृद्वजन पेंशन सहित अन्य सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना के लाभार्थियों को 10 अप्रैल तक हर हाल में टीका लगाना सुनिश्चित किया जाए। सभी वृद्धजनों के कोविड टीकाकरण के लिए नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, हेल्थ एंड वेल्नेस सेन्टर, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर व्यवस्था कराई जाए। लाभार्थियों के बैठने के लिए कुर्सी तथा पेयजल की उपलब्धता कराई जाए। भीड़-भाड़ से निपटने की व्यवस्था करें सुनिश्चित जिलाधिकारी ने कहा कि एक साथ अत्यधिक संख्या में लाभार्थियों के आगमन तथा भीड़-भाड़ की स्थिति में पोर्टल प्रविष्टि में समय लगने की संभावना है। उक्त परिस्थिति में लाभार्थी के आधार कार्ड की छायाप्रति, मोबाइल नंबर आदि लेने की ‌र्प्रक्रिया पूर्ण कर उनके विवरणी को संधारित करते हुए उनका टीकाकरण किया जाए एवं पोर्टल के सामान्य रूप से कार्य करने पर संबंधित लाभार्थी के आंकड़ों की विवरणी फोटो एवं पहचान को अपलोड किया जाए। डीएम ने कहा कि प्रतिदिन टीकाकरण की प्रगति की समीक्षा की जाएगी। साथ ही एईएस व जेई की रोकथाम हेतु लोगों को जागरूक करने हेतु दलित /महादलित टोलों में चौपाल कराने का निर्देश दिया। सभी आंगनबाड़ी सेविका, जीविका दीदी अपने क्षेत्र में सभी लोगों के बीच एइएस /जेई के बारे में लोग बताएं कि बच्चों को रात में खाली पेट नहीं सुलाए। रात में मीठा भोजन खिलाएं, बुखार आने पर तुरंत नजदीक सरकारी अस्पताल में जाएं। उन्होंने सभी प्रभारी पदाधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को निदेश दिया कि कोई केस आता है तो प्राथमिक उपचार करने के उपरांत ही उसे रेफर किया जाए

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।