Breaking News

शादी के छह महीने बाद पति को हो गई थी उम्रकैद, बच्चा पैदा करने के लिए हाईकोर्ट ने दी 15 दिन की पैरोल

 


आपने बच्चा पैदा करने के लिए कोर्ट से किसी कैदी को पैरोल दिए जाने के बारे में शायद ही कभी नहीं सुना होगा। मगर ऐसा बिहार में हो रहा है। जेल में हत्या के आरोप में बंद एक कैदी को पटना हाईकोर्ट ने संतान पैदा करने के लिए 5 दिन की पैरोल पर छोड़ने का आदेश दिया है। पैरोल की पूरी प्रक्रिया कानून के प्रावधानों के तहत हुई है।

क्या है पूरा मामला
कैदी विक्की कुमार नालंदा के रहुई थाना इलाके के उतरनावां गांव का रहने वाला है। 2012 में हत्या के एक मामले में उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। तब से वह बिहार शरीफ जेल में सजा काट रहा है। अधिवक्ता की सलाह पर विक्की की पत्नी रंजीता ने हाईकोर्ट में संतान पैदा करने के लिए याचिका दायर की थी।

रंजीता की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने संतान पैदा करने के लिए पति को 15 दिनों की पैरोल पर विक्की को छोड़ने का आदेश दिया है। जेल अधीक्षक को हाईकोर्ट के आदेश की सूचना मिल चुकी है। इसमें देवेंद्र शर्मा की अहम भूमिका रही है। शर्मा की सलाह पर विक्की और उसकी पत्नी काफी खुश हैं।

विक्की ने बताया कि शादी के छह महीने बाद ही हत्या के मामले में उसे जेल जाना पड़ गया था। जेल विजिट के दौरान विक्की ने शर्मा को अपनी व्यथा बताई। इसके बाद अधिवक्ता की सलाह पर विक्की की पत्नी ने याचिका दाखिल की। इसपर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने उसे पैरोल पर छोड़ने का फैसला सुनाया।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।