Breaking News

एक्शन में बिहार पुलिस: शराब सप्लाई करने वाले हरियाणा और पंजाब के पांच माफिया गिरफ्तार

 


शराबबंदी के बाद बिहार में शराब की सप्लाई करने वाले बड़े माफियाओं को गिरफ्तार करने की कार्रवाई तेज कर दी गई है। सारण डीआईजी मनु महाराज ने सीवान, सारण और गोपालगंज के एसपी आनंद कुमार के साथ बैठक कर माफियाओं को गिरफ्तार करने के लिए एक सेंट्रल टीम का गठन किया। इसके बाद बिहार में शराब की खेप भेजने वाले हरियाणा, पंजाब, राजसथान, उतराखंड व उत्तर प्रदेश के माफियाओं को गिरफ्तार करने के लिए ताबड़तोड़ छापेमारी की गई। 

छापेमारी के दौरान पांच शराब माफियाओं को गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि एक माफिया भागने में सफल हो गया। सारण डीआईजी मनु महाराज ने बताया कि कुचायकोट थाने में वर्ष 2018 में ट्रक से जब्त की गई शराब मामले में फरार चल रहे पंजाब के मोहाली जिले के वनुर थाने के वनुर गांव का गुरजंत सिंह व प्रदीप सिंह को गिरफ्तार किया गया है। वहीं वर्ष 2019 में भी कुचायकोट थाने में जब्त शराब के मामले में फरार चल रहे पंजाब के लुधियाना जिले के जमालपुर थाने के बैंक कॉलोनी के रहनेवाले तेजिंद्र सिंह को गिरफ्तार किया गया।

सीवान जिले के जीबी नगर थाने में वर्ष 2018 में शराब तस्करी के मामले में फरार वाहन मालिक व हरियाणा के इनसार जिले के सदर थाने के बंडाटेडी चौकी बालसम्द गांव के रमधन को गिरफ्तार कर लिया गया। सारण जिले के मांझी थाने में शराब बरामदगी मामले में फरार माफिया व हरियाणा के सिरसा जिले के सदर सिरसा थाने के पनीहारी गांव के ट्रक मालिक दीपक कुमार को गिरफ्तार किया गया है। जबकि पंजाब के लुधियाना जिले के उबा थाने के गुरमीत नगर गली नंबर चार के निवासी व कुचायकोट थाने में जब्त की गई शराब मामले में फरार आरोपित संजीव उर्फ संजू को गिरफ्तार किया गया। मगर लुधियाना में कोर्ट में पेशी के दौरान वह फरार हो गया। 

अर्जित संपत्ति का लगाया जा रहा पता
बिहार में पूर्ण शराबबंदी के बाद बिहार में शराब की सप्लाई करने के मामले में गिरफ्तार किए गए माफियाओं की अर्जित की गई संपत्ति का पता लगाया जा रहा है। पुलिस की टीम यह पता लगा रही है कि शराब माफियाओं ने शराब की सप्लाई कर कितने की संपत्ति अर्जित की है। वहीं उनकी अपराधिक इतिहास भी पुलिस खंगाल रही है। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।