Breaking News

छपरा के हर घर के किचन तक पहुंचेगा पाइप लाइन से गैस, जाने काहा-काहा काम शुरू हुआ है और कहा होने वाला है

 


छपरा। छपरा के हर घर के किचन तक अब बहुत जल्द ही गैस पाइप लाइन से गैस पहुंचेगा। इसके लिए गैस कंपनी के द्वारा शहर के विभिन्न मोहल्लों में गैस पाइप लाइन बिछाने का काम प्रारंभ कर दिया गया है। जिसके लिए गैस पाइप लाइन बिछाने वाले कर्मचारी सड़कों पर जहां भारी मशीन की मदद से पाइप बिछाने में लगे हुए हैं। वहीं गली में भी पाइप बिछाने को लेकर मजदूर गड्ढा खोदकर पाइप बिछाने में लगे हुए हैं। गैस कनेक्शन के लिए भी आवेदन प्राप्त किया जाने लगा है। ऐसे आवेदकों के घर के बाहर गैस पाइप भी निकाला जा रहा है। जिससे की गैस सप्लाई चालू किये जाने के दौरान उस घर में कनेक्शन दिया जा सके। गैस बुक करने और सिलेंडर के झंझट से मिलेगी मुक्ति

गैस की सुविधा शुरू होंने के कारण जहां उपभोक्ताओं को रसोई पकाने में काफी सुविधा मिली थी। वहीं गैस की किल्लत होने पर ब्लैक का धंधा भी जोरो पर चलता था। ऐसे में उपभोक्ताओं को काफी परेशानी होती थी। लेकिन अब इस परेशानी से भी शहरवासियों को जल्द ही मुक्ति मिलने वाली है। इसके लिए गैस कंपनी के द्वारा शहर में गैस पाइप लाइन बिछाने का काम प्रारंभ कर दिया गया है। जिसके बाद अब कनेक्शन देकर हर घर में पाइप लाइन के माध्यम से किचेन तक पाइप के माध्यम से गैस पहुंचाया जाएगा। जिसके बाद सिलेंडर से मुक्ति मिल जाएगी। इन मोहल्लों में चल रहा गैस पाइप बिछाने का काम

 प्रथम चरण में गैस पाइप लाइन को बिछाने का काम शहर के गुदरी मेन रोड, गुदरी बाजार, श्यामचक, मासूमगंज, नबीगंज, भगवान बाजार, बैंक कॉलोनी, आदर्श नगर, सलेमपुर, मौना, साहेबगंज, साढा, नेवाजी टोला, दहियांवा, प्रभुनाथ नगर, उमा नगर, दर्शन नगर आदि मोहल्लो में गैस पाइप लाइन बिछाने का काम तीव्र गति से कराया जा रहा है। उपभोक्ता गैस कनेक्शन के बाद सिलेंडर को जमा कर प्राप्त कर सकते हैं जमा राशि

उपभोक्ता गैस कनेक्शन लेने के बाद पूर्व से लिये गये सिलेंडर को उस एजेंसी में जमा कर कनेक्शन बंद करवाने के बाद जमा राशि को प्राप्त कर सकते हैं। क्योंकि पाइप लाइन से गैस पहुंचाये जाने के बाद उस गैस सिलेंडर की कोई आवश्यकता नहीं रह जाएगी। इनसेट

गैस पाइप लाइन बिछाने में लगे मजदूरों के सुरक्षा मानकों का नहीं किया जा रहा पालन जासं, छपरा : गैस पाइप लाइन बिछाये जाने में लगे मजदूरो के सुरक्षा के मानकों को पूरा नही किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में कोई हादसा हो सकता है। क्योंकि कंपनी के कार्य में जहां भारी मशीनों का प्रयोग किया जा रहा है। वहीं जल्द काम किये जाने को लेकर काफी मजदूर भी लगाये गये हैं। नियमत: किसी निर्माण कार्य में लगे सभी मजदूरों को गम बूट, हेलमेट, हैंड ग्लॉव्स, सेफ्टी बेल्ट एवं रेडियम लगा जैकेट पहनना अनिवार्य है। जबकि गैस पाइप लाइन बिछाने के कार्य में लगे मजदूर सिर्फ रेडियम जैकेट पहनकर ही कार्य कर रहे हैं। ऐसे में कार्य के दौरान किसी अप्रिय घटना होने पर समस्या आ सकती है। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।