Breaking News

पटना:- प्रेमिका से धोखा मिला तो ब्रेक-अप की भी कर दी ब्रांडिंग, पटना में दुकान खोली और नाम रखा 'बेवफा चायवाला'

 


पटना, बिहार। प्‍यार में धोखा खाए लोगों को देवदास बनते तो देखा होगा, लेकिन एक युवक ने गर्लफ्रेंड की बेवफाई की भी ब्रांडिंग (Branding of Cheating in Love) कर पैसे कमाने शुरू कर दिए हैं। जी हां, उसने 'बेवफा चायवाला' (Bewafa Chaiwala) नाम से दुकान खोल दी है। पटना के व्‍यस्‍त बोरिंग कैनाल रोड के किनारे उसके ठेले पर प्रेम व बेवफाई की चाय पीने के लिए भीड़ उमड़ती है। आगे वह अपने दोस्‍तों के साथ इस दुकान की पूरी चेन बनाने वाला है। खास बात यह है कि यहां प्रेमी जोड़ों से लेकर प्‍यार में धोखा खाए लोगों तक के लिए अलग-अलग चाय अलग-अलग मूल्‍य पर उपलब्‍ध है।

चाय एक, पर अलग-अलग नाम व दाम

चाय की दुकानों में यह जरा हटकर है। इसमें इसमें चायवाले की निजी जिंदगी का दर्द भी समाया हुआ है। यहां प्यार में धोखा खाए लोगों को चाय में छूट दी जाती है तो प्रेमी जोड़ों से 15 रुपये कीमत ली जाती है। प्‍यार में धोखा मिला है तो चाय 10 रुपये में मिल जाएगी। कुल्‍हड़ में दी जाने वाली एक ही स्‍पेशल चाय, लेकिन अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग मूल्‍य के बावजूद ग्राहकाें को काई ऐतराज नहीं है। वे शौक से चाय पीते हैं, साथ ही दुकान के नाम के पीछे के राज को जानने की कोशिश करते हैं और चले जाते हैं। यह सिलसिला करीब दो महीने से चल रहा है।]

प्रेमिका की याद में शुरू किया स्‍टार्ट-अप



यह दुकान वैलेंटाइन वीक में इसी साल आठ फरवरी को तीन दोस्‍तों ने मिलकर खोली है। एक दिन पहले आइडिया आया और अगली सुबह सड़क किनारे लगा दिया ठेला। फिर धीरे-धीरे सामान आते गए, काउंटर भी बना। दुकान खाेलने का आइडिया पटना के महुआ बाग में रहने वाले संदीप कुमार का है। संदीप को पांच साल पहले साल 2020 में एक लड़की से प्‍यार हो गया था। रिलेशनशिप लंबी चली, लेकिन साल 2020 में दोनों का ब्रेक-अप हो गया। संदीप के अनुसार यह फैसला लड़की का था। इसके बाद डिप्रेशन में चले गए संदीप अब समान्‍य जिंदगी जी रहे हैं। अभी तक शादी तो नहीं की है, लेकिन अपने पैरों पर खड़े हैं। हां, उस ब्रेक-अप को नहीं भूले हैं, इसलिए 'बेवफा चायवाला' नाम से स्‍टार्ट-अप शुरू कर दिया है।

प्‍यार में धोखा खाए लोगों को मिलती छूट



संदीप अपने बचपन के दो और दोस्‍तों कुणाल व राहुल के साथ मिलकर दुकान चलाते हैं। तीनों का यह साइड बिजनेस है, लेकिन समय निकाल कर खुद भी ग्राहकों को चाय सर्व करते हैं। उनकी गैर मौजूदगी में दुकान संभालने वाले संदीप के रिश्‍ते में भाई सोनू कुमार बताते हैं कि यहां दूर-दूर से प्रेमी जोड़े चाय पीने आते हैं। इसके अलावा स्कूल-कॉलेज के स्‍टूडेंट्स से लेकर नौकरीपेशा लोग भी नियमित ग्राहक हैं। प्‍यार में धोखा खाए लोगों की छूट वाली चाय भी खूब बिकती है।

चाय दुकान की चेन खोलने की योजना



साेनू बताते हैं कि शुरुआती दौर में रोजाना तीन से चार सौ कप चाय बिकती थी। गर्मी की आहट के साथ अधिकांश ग्राहक शाम में आ रहे हैं, इसलिए अभी करीब 250 कप चाय ही बिक रही है। दुकान से रोजाना करीब 15 सौ रुपये की आमदनी हो रही है। बकौल सोनू, आगे इस चाय दुकान की चेन खोलनी है। इसी कड़ी में दो-तीन दिन पहले ही पटना के मीठापुर में फुटपाथ के ठेले का एक ब्रांच खोला गया है।

दुकान पर आने के सबके अपने-अपने कारण



चाय की दुकान पर गर्लफ्रेंड के साथ पहुंचे मेडिकल स्टूडेंट आदर्श राज हों या अकेलेपन के मारे राजकुमार सिंह, सबों के लिए यहां आने के अपने-अपने कारण हैं। अपने अनोखे स्‍टार्ट-अप को लेकर पूरी उम्‍मीद लगाए बैठे संदीप कहते हैं कि वे अपने ग्राहकों का पूरा ध्‍यान रखते हैं। कहते हैं, अच्‍छी सर्विस देंगे तो बिजनेस बढ़ेगा ही। अभी तो शुरुआत है। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।