Breaking News

शिव भक्तों पर मधुमक्खियों ने किया हमला, एक दर्जन श्रद्धालु हुए जख्मी

 


मुंगेर। महाशिवरात्रि के मौके पर प्राचीन काली पहाड़ी के शिखर पर महाभारत कालीन यमला काली के साथ भोलेनाथ के मंदिर में जलाभिषेक करने गए शिव भक्तों पर मधुमक्खी के झुंड ने हमला कर दिया। इस घटना से पहाड़ पर श्रद्धालुओं के बीच अफरातफरी मच गई। इसके कारण कई लोग चोटिल भी हो गए। इस दौरान दर्जनों श्रद्धालु मधुमक्खी के डंक का शिकार हुए।

मधुमक्खी के झुंड द्वारा श्रद्धालुओं पर हमला किए जाने के बारे में जख्मी शंभु, शुभम, रवीश कुमार, विवेका कुमार, नंदू सिन्हा, सुभाष कुमार सहित मंदिर के पुजारी अमित कुमार ने बताया कि मधुमक्खी का बड़ा खोता पहले से एक पैर में लगा हुआ था। जिसे कुछ शरारती तत्वों द्वारा मधुमक्खी के छत्ता को छेड़ा गया। जिसके कारण मधुमक्खी के हजारों की झुंड ने दर्जनों श्रद्धालुओं को काट लिया। कुछेक श्रद्धालु मधुमक्खी से बचने के लिए कुंड में डुबकी लगा दी, तो कोई मंदिर में छिप गए। श्रद्धालु मधुमक्खी के हमले से बचने के लिए जंगल-झाड़ में छिपने की कोशिश करते दिखे। इधर, मंदिर के पुजारी बाबा किस्टो, बाबा अमित एवं योगाचार्य अजय कुमार चौरसिया ने काफी सूझबूझ का परिचय देते हुए श्रद्धालुओं को शांत कर स्थिति को नियंत्रित किया। श्रद्धालुओं द्वारा इसकी सूचना जिला पुलिस प्रशासन को भी दी गई। इसके बाद नयारामनगर थाना की पुलिस भी काली पहाड़ी पहुंची। तब तक मधुमक्खी का झुंड शांत होकर लौट गया था।

 बोल बम के नारे से गूंज उठा ऐतिहासिक काली पहाड़ी

संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर) : महाशिवरात्रि पर ऐतिहासिक काली पहाड़ी पर जलाभिषेक करने उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़ बोल बम के नारों से गूंज उठा। हर साल की भांति इस साल भी हजारों की संख्या में श्रद्धालु उत्तरवाहिनी गंगा में स्नान कर जल लेकर पैदल चलकर काली पहाड़ी मंदिर पहुंचे। बोल बम के नारे से काली पहाड़ी मंदिर गूंजायमान हो रहा था। भोले बाबा के साथ ही श्रद्धालुओं ने यमला काली और राधा कृष्ण मंदिर में भी जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की। मुंगेर के उत्तरवाहिनी गंगा में स्नान कर जलाभिषेक को लेकर काली पहाड़ी पहुंचे श्रद्धालु सुजीत कुमार, छोटू पासवान, शुभम, सहित कई ने बताया कि कई वर्षों से हमलोग इस परंपरा को पूरी निष्ठा के साथ मनाते आ रहे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।