Breaking News

बिहार पंचायत चुनाव में जिंदा ही नहीं मुर्दे भी डालेंगे वोट! जानें क्या है पूरा मामला

 


बिहार में इस बार पंचायत चुनाव काफी दिलचस्प होने वाला है। इस बार जीवित ही नहीं मृतक भी अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। यह चुनाव के लिये बनी मतदाता सूची बता रही है। दरअसल मतदाता सूची में सालों पहले मर चुके लोगों का भी नाम दिया गया है। सूची जारी होने के बाद यह चर्चा का विषय बना हुआ है। मामला सुपौल जिले के सदर प्रखंड के बैरिया वार्ड 12 का है। 

यहां की मतदाता सूची में कई ऐसे ग्रामीणों का नाम शामिल है जिनकी मौत हो चुकी है। मृत मतदाताओं में परमेश्वर राम, दुलारी देवी, सिया देवी और जागेश्वर पोद्दार शामिल हैं। मृतकों के मतदाता सूची में नाम आने के बाद उनके परिजन हैरान हैं। परमेश्वर राम और दुलारी देवी के पुत्र दिनेश राम ने बताया  वह उनके माता-पिता करीब तीन साल पहले गुजर चुके हैं। अब तो राशन कार्ड से भी उनका नाम हट गया लेकिन पता नहीं कैसे चुनाव के लिये जारी मतदाता सूची में उनका नाम दे दिया गया हैं। 

जागेश्वर पोद्दार के परिजन शिवजी कुमार ने बताया कि उनके दादा की करीब पांच साल पहले मौत हो चुकी है। जिला प्रशासन की ओर से उनके नाम का मृत्यु प्रमाण पत्र भी बन गया है। बावजूद विभाग द्वारा उनका नाम मतदाता सूची में दे दिया गया है। सिया देवी के पति महेंद्र राम का कहना है कि उनकी पत्नी की मौत को करीब एक साल हो चुकी है।

पिता वार्ड 12 तो पुत्र को बना दिया वार्ड 11 का मतदाता
मतदाता सूची में गड़बड़ी सिर्फ मृतक तक ही सीमित नहीं है। कई ऐसे मतदाता भी हैं जिनके वार्ड में भी हेरफेर कर दिया गया है। हैरत की बात तो यह है कि लोग एक परिवार में बावजूद मतदाता सूची में अलग-अलग वार्ड के बन गए हैं। इसके बाद अब ग्रामीण के लिए यह परेशानी बन गई है। वार्ड 12 निवासी लक्ष्मी राम ने बताया कि मतदाताओं से पूछे बिना जिला प्रशासन ने मतदाता सूची जारी कर दी है। उन्होंने बताया कि उनके पिता हलधर राम का नाम वार्ड 11 की मतदाता सूची में दिया गया है तो उन्हें वार्ड 12 की मतदाता सूची में भेज दिया गया है। लोगों का कहना है कि बीएलओ को भी इसकी जानकारी दी गई है लेकिन वह अगली बार सुधार बात कहकर बात को टाल दे रहे हैं। लोगों का कहना था कि मतदाता सूची तैयार होने से पहले कोई भी कर्मी पूछताछ के लिए नहीं आए थे। 

जिनका नाम मतदाता सूची से हटा है उनका जोड़ा जाएगा
डीपीआरओ संतोष कुमार ने बताया कि मृतकों के मतदाता सूची में नाम आने की जानकारी नहीं है। हालांकि अंतिम मतदाता सूची अभी जारी होनी बांकी है। अगर कहीं ऐसा है तो मृतकों का नाम मतदाता सूची से हटाया जाएगा। ऐसे व्यक्ति जिनका मतदाता सूची में नाम नहीं हैं, उन सभी का नाम जोड़ा जाएगा। इसके लिए जल्द ही आदेश जारी कर सुधार किया जाएगा। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।