Breaking News

बिहार क्राइम: मुजफ्फरपुर में दुकान बंद कर घर लौटे व्यवसायी की गेट पर गोली मारकर हत्या

 


बिहार के मुजफ्फरपुर में बाइक सवार अपराधियों ने इलेक्ट्रॉनिक व्यवसायी की गोली मार हत्या कर दी। व्यवसायी उस वक्त इमलीचट्टी में दुकान बंदकर बाइक से लौटे थे। बाइक खड़ी कर गेट खोलने के लिए कॉल बेल बजाया। जबतक परिजन आकर गेट खोलते, दो अपराधी आ धमके और घर के दरवाजे पर एकदम करीब से व्यवसायी के सीने में गोली दाग दी।  घटना शनिवार की रात करीब नौ बजे अहियापुर थाने के शेखपुर में घटी।

वारदात को अंजाम देकर अपराधी जीरोमाइल चौक की ओर फरार हो गए। गोली चलने की आवाज पर परिजन तेजी से बाहर निकले। व्यवसायी विनोद चौधरी गेट के सामाने गिरे थे और खून से लथपथ थे। परिजन उन्हें निजी वाहन से बैरिया स्थित निजी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। 

हत्या की घटना से मोहल्ले में कोहराम मच गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि अबतक मोहल्ले में इस तरह की घटना नहीं हुई थी। पुलिस की ठोस कार्रवाई नहीं होने से अपराधी बेखौफ हो चले हैं। इस घटना पर व्यवसायियों ने भी आक्रोश जताया है। पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं। एसकेएमसीएच में पोस्टमार्टम के लिए शव भेजे जाने के बाद देर रात तक रिश्तेदारों व परिचितों के आने का तांता लगा रहा। मोहल्ला में घटना के बाद से तनाव है। एहतियातन पुलिस कैंप कर रही है। 

डेढ़ घंटे बाद पहुंचे नगर डीएसपी:
घटना के करीब 15 मिनट के बाद अहियापुर पुलिस पहुंची। घटनास्थल और अहियापुर थाने की दूरी एक किलोमीटर है। पुलिस के पहुंचने पर विनोद चौधरी के परिजनों ने नाराजगी भी जतायी। एक परिजन ने कहा कि पुलिस से क्या होगा, सच्चाई हम सब जानते हैं। खुद ही हत्या की वजह मालूम करेंगे। रात साढ़े 10 बजे नगर डीएसपी रामनरेश पासवान पहुंचे। घटनास्थल की छानबीन की। मोहल्ले में लगे सीसीटीवी की जांच की। 

चप्पल में ही पहुंचे एसटीएफ के जवान: 
घटना की सूचना पाकर एसटीएफ के जवान हवाई चप्पल में ही घटनास्थल पर पहुंचे। जवानों ने बताया कि उनलोगों को समय नहीं मिला कि जूता तक पहन सके। हत्या की जांच में एसएसपी जयंतकांत के निर्देश पर एसआईटी, सर्विलांस और डीआईयू छानबीन में जुट गई है। 

दहाड़ मारकर रो रहे थे परिजन:
घटना की जानकारी मिलने पर परिजन बैरिया स्थित निजी अस्पताल पहुंचे। वहां व्यवसायी की बहन दहाड़ माकर रो रही थी। वहां मौजूद परिचित ने बताया कि व्यवसायी विनोद चौधरी सात भाई थे। सूरजन पकड़ी से भी ग्रामीण व अन्य रिश्तेदार शेखपुर स्थित घर पहुंचने लगे थे। पत्नी व अन्य परिजन बेसुध हैं। घर पर चीख-पुकार मची रही।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।