Breaking News

Bihar Board Risult: बिहार बोर्ड के रिजल्ट में होगी देरी, स्कूल ने अबतक नहीं भेजे प्रैक्टिकल मार्क्स


बिहार मैट्रिक और इंटर परीक्षा में शामिल होने के बावजूद सैकड़ों परीक्षार्थियों का रिजल्ट फंस सकता है। स्कूल-कॉलेज की लापरवाही के कारण मैट्रिक व इंटर परीक्षार्थियों के रिजल्ट में देरी हो सकती है। बड़ी संख्या में ऐसे परीक्षार्थी हैं जिनके प्रैक्टिकल के अंक स्कूल-कॉलेज की ओर से अब तक बिहार विद्यालय परीक्षा समिति को नहीं भेजा गया है।

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने ऐसे स्कूल कॉलेज की सूची जारी करते हुए इन पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही इन्हें 24 घंटे का अल्टीमेटम भी दिया है। मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों का प्रैक्टिकल स्कूल कॉलेज के स्तर पर लिया गया था। बोर्ड ने स्कूल-कॉलेजों को प्रैक्टिकल के अंक को भेजने का निर्देश दिया था। लेकिन, मामला सामने आया है कि अब तक बड़ी संख्या में ऐसे स्कूल-कॉलेज हैं जिन्होंने विभिन्न विषयों के प्रैक्टिकल के अंक बोर्ड को नहीं भेजे हैं।

ये परीक्षार्थी थ्योरी की परीक्षा में शामिल हुए थे, लेकिन प्रैक्टिकल का अंक नहीं मिलने के कारण इनका रिजल्ट पेंडिंग हो सकता है। बिहार बोर्ड ने इस संबंध में डीएम के साथ डीईओ को निर्देश दिया है कि ऐसे स्कूल पर कार्रवाई की जाए। क्योंकि, छात्रों के रिजल्ट के लटकने का कारण इन स्कूल-कॉलेजों की लापरवाही होगी। जिले में 500 से अधिक छात्र-छात्राओं के प्रैक्टिकल का अंक अब तक नहीं भेजे गये हैं। इसमें साइंस, सोशल साइंस के प्रोजेक्ट वर्क इंटरनल एसेसमेंट, म्यूजिक इन सबके प्रैक्टिकल अंक बिहार बोर्ड को नहीं भेजे गए हैं। 

मुजफ्फरपुर के अलावा ये जिले हैं शामिल:
मुजफ्फरपुर के साथ सुपौल, सहरसा, भागलपुर, बेगूसराय, खगड़िया, शेखपुरा, लखीसराय , जमुई, मुंगेर, कटिहार, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, बांका, मधेपुरा, सीतामढ़ी, वैशाली, पूर्वी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, पटना, भोजपुर, नालंदा, रोहतास, बक्सर, कैमूर, गया ,नवादा, औरंगाबाद, जहानाबाद जिले भी शामिल हैं। इन सभी जिलों में 100 से लेकर 500 तक के बीच में परीक्षार्थियों के प्रैक्टिकल का अंक नहीं भेजा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।