Breaking News

छपरा:- कोविड-19 टीकाकरण के शत प्रतिशत लक्ष्य को हासिल करना सर्वोच्च प्राथमिकता: डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार



•वर्ष 2023 तक सारण जिला होगा टीबी मुक्त

• स्वास्थ्य संस्थानो को बनाया जाएगा स्वच्छ व  सुविधाजनक

•संस्थागत प्रसव को दिया जाएगा बढ़ावा


छपरा। कोविड-19 टीकाकरण के लक्ष्य को हर हाल में शत-प्रतिशत हासिल करना मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी। उक्त बातें सारण के नए सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने पदभार ग्रहण करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जिले में तीसरे चरण की शुरुआत की गई है। जिसके तहत बुजुर्गों का टीकाकरण किया जा रहा है और निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप टीकाकरण की उपलब्धि प्राप्त करना है। इसको लेकर बेहतर तरीके से समन्वय स्थापित कर कार्य करने की आवश्यकता है। सिविल सर्जन ने कहा कि स्वास्थ्य के हर एक बिंदुओं पर सारण जिला को सर्वोच्च स्थान दिलाना हमारा प्रयास होगा स्वास्थ्य के सभी मानकों पर रैंकिंग में सारण को पूरे राज्य में पहला स्थान दिलाना हमारा प्रयास होगा। उन्होंने निवर्तमान सिविल सर्जन के कार्यो की सराहना करते हुए कहा कि सारण जिले मानकों के रैंकिंग निचले स्तर से 5 या 8 नंबर रहता था। लेकिन इनके मेहनत के बदौलत सारण जिला अब टॉप 5 में शामिल है।  सिविल सर्जन डॉ. जेपी सुकुमार ने कहा कि स्वच्छता से ही बेहतर स्वास्थ्य की परिकल्पना को पूरी की जा सकती है। इसलिए सभी स्वास्थ्य संस्थानों में स्वच्छता का विशेष ख्याल रखा जाएगा और इसके लिए कार्य किया जाएगा। अगर कोई व्यक्ति अपने आपको स्वस्थ रखना चाहता है तो सबसे पहले उसे स्वस्थ रहना होगा। सारण के निवर्तमान सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वरश्वर झा का तबादला दरभंगा में क्षेत्रीय अपर निदेशक के पद पर किया गया है। नए सिविल सर्जन डॉ जेपी सुकुमार राज्य  क्षमा विभाग के अपर निदेशक के पद पर तैनात थे। अब वह सारण के सिविल सर्जन के पद पर पदस्थापित किए गए हैं। 



2023 में टीबी मुक्त होने वाला बिहार का पहला जिला बनेगा सारण:


सिविल सर्जन डॉ जेपी सुकुमार ने कहा कि वर्ष 2025 तक केंद्र सरकार के द्वारा देश को टीबी मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है लेकिन हमारा प्रयास होगा कि सारण जिला को वर्ष 2023 तक टीबी मुक्त किया जाए और यह बिहार का पहला जिला होगा।  उन्होंने कहा कि टीबी के क्षेत्र में उनका काफी पुराना अनुभव रहा है। यक्ष्मा विभाग में अपर निदेशक के पद पर कार्य कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास इसको लेकर कार्य योजना है जिसको लागू कर जिले को टीबी मुक्त किया जाएगा।



सभी स्वस्थ संस्थानों में दवाओं की उपलब्धता की जाएगी सुनिश्चित:


सिविल सर्जन ने कहा कि स्वास्थ्य सेवा को गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए प्रयास किया जा रहा है। सभी स्वास्थ संस्थानों में दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी ताकि मरीजों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो। इमरजेंसी वार्ड में साफ सफाई का विशेष रूप से ख्याल रखना है।  उन्होंने कहा कि सभी कर्मी अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से पालन करें किसी प्रकार की शिकायत की कोई गुंजाइश नहीं रहे। 



सिविल सर्जन के कार्यों को नहीं भूल पाएंगे सारणवासी:


सारण के निवर्तमान सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा  को भावभीनी विदाई दी गई। सदर अस्पताल के जीएनएम में स्कूल में समारोह आयोजित कर विदाई स्वागत कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें निवर्तमान सिविल सर्जन को विदाई दी गई तथा नए सिविल सर्जन का स्वागत किया गया। इस अवसर पर चिकित्सकों ने उनके कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि सिविल सर्जन  के कार्यों को सारणवासी कभी नहीं भूल पाएंगे। डॉ झा ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर काम किया और सारणवासी के हर समस्याओं का निदान करने के लिए तत्पर रहें। इस मौके पर जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा, जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ दिलीप कुमार सिंह, सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ रामइकबाल  प्रसाद, डॉ रत्नेश्वर प्रसाद, डीपीएम अरविंद कुमार, डीएमएन्डई भानु शर्मा, डीपीसी रमेश चंद्र कुमार, डीसीएम बृजेंद्र कुमार सिंह, यूनिसेफ के एसएमसी आरती त्रिपाठी, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ  रंजितेश कुमार, हेल्थ मैनेजर राजेश्वर प्रसाद सीफार के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गणपत आर्यन, प्रवीण कुमार धनन्जय कुमार, केयर इंडिया के डिटीएल संजय कुमार विश्वास समेत सभी स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।