Breaking News

बिहार में 169 नर्सिंग शिक्षकों की नियुक्ति में सर्टिफिकेट्स जांच की वजह से देरी, अब 25 तक आएगी मेरिट लिस्ट


बिहार स्वास्थ्य विभाग में सर्टिफिकेट्स जांच की वजह से नर्सिंग शिक्षकों की नियुक्ति में देरी हो रही है। विभाग के मुताबिक अब 25 मार्च तक कैंडिडेट्स की मेरिट लिस्ट जारी हो सकती है।

दरअसल स्वास्थ्य विभाग में नर्सिंग शिक्षक के रूप में नियुक्ति के लिए आवेदन करने वाले 45 उम्मीदवारों ने भर्ती प्रक्रिया में बोनस अंक प्राप्त करने के लिए कार्य अनुभव का फर्जी दावे का सर्टिफिकेट दिया है। बिहार तकनीकी सेवा आयोग (बीटीसीएस) की नियुक्तियों के लिए चयनित उम्मीदवारों के काउंसिलिंग के दौरान दस्तावेजों के सत्यापन के समय ऐसे 45 उम्मीदवारों का पता चला जो सरकारी के बजाय निजी संस्थानों के एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट दिया था। इसकी वजह से मेरिट लिस्ट प्रभावित हुई थी।

बता दें कि बिहार की भर्ती नीति के अनुसार, राज्य सरकार के सेट-अप में अनुभवी उम्मीदवारों को प्रत्येक एक साल के लिए 5 अंक और अधिकतम 25 अंक तक दिए जाते हैं। इससे उनकी नियुक्ति में वरीयता दी जाती है।
 
आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी  ने बताया कि उम्मीदवारों द्वारा घोषित वर्क एक्सपीरियंस के अंक को जोड़कर शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों को काउंसलिंग के लिए बुलाया  गया था। इसी दौरान पाया गया कि काउंसिलिंग के लिए पहुंचे कुछ उम्मीदवारों ने निजी संस्थानों में काम करने के अनुभव के फर्जी दावे किए थे। उन्होंने कहा कि सामान्य कैटेगरी में कट-ऑफ अब लगभग 6% कम हो गया है ताकि ऐसे उम्मीदवारों को हटाया जा सके। हमें अब सभी उम्मीदवारों को काउंसलिंग के लिए बुलाना होगा, जिन्हें कटऑफ में कम माक्र्स आए थे। जिसकी वजह से भर्ती प्रक्रिया में देरी हुई।

बता दें कि बिहार स्वास्थ्य विभाग ने 4 जुलाई 2019 को नर्सिंग शिक्षकों के 169 पदों को भरने के लिए विज्ञापन के माध्यम से आवेदन आमंत्रित किए थे। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 25 जुलाई, 2019 थी। भर्ती प्रक्रिया के दौरान आयोग को मेरिट सूची में खामियों का पता लगा। इसके बाद कटऑफ में दो बार संशोधन किया गया। इस दौरान कम मेधावी अभ्यर्थियों के कटऑफ कम पाए जाने पर आयोग को एक बार काउंसलिंग तक बंद करनी पड़ी थी। वहीं नियुक्ति में अधिक पारदर्शिता के लिए आयोग ने बिहार के आरक्षण रोस्टर का पालन करते हुए मेरिट सूची तैयार करने के लिए एनआईसी-लखनऊ तक की दौड़ लगाई थी। आयोग अब उन उम्मीदवारों के लिए काउंसलिंग आयोजित करेगा जो 18 और 20 मार्च के बीच कम कट-ऑफ के साथ अर्हता प्राप्त किया था। अब 25 मार्च तक संभावित मेरिट लिस्ट जारी हो सकती है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।