Breaking News

छपरा :- 12 मार्च को पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियों के लिए चलेगा विशेष टीकाकरण अभियान


• 45 से 59 साल तक के उम्र के वैसे जनप्रतिनिधियों को लगेगा टीका जो किसी गंभीर बीमारी से हैं ग्रसित

• सदर अस्पताल समेत सभी चयनित सत्र  स्थलों पर होगा टीकाकरण

•टीकाकरण केंद्र पर पर्याप्त मात्रा में बैठने की होगी व्यवस्था

•पेयजल व शौचालय की व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश



छपरा । जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। अब तीसरे चरण में बुजुर्गों का टीकाकरण किया जा रहा है। 60 साल व उससे अधिक उम्र वाले तथा 45 से 59 साल तक के वैसे व्यक्ति जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं , उनका टीकाकरण व्यापक स्तर पर किया जा रहा है। इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग की ओर से टीकाकरण के लक्ष्य को शतप्रतिशत हासिल करने के लिए एक अहम निर्णय लिया गया है।12 मार्च को जिले में पंचायती राज के जनप्रतिनिधियों के लिए विशेष रूप से टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। सभी टीकाकरण केंद्रों पर विशेष रूप से पंचायती राज के वैसे जनप्रतिनिधि जिनकी उम्र 45 से 59 वर्ष तक की है और उनको कोई गंभीर बीमारी है तो उनका टीकाकरण किया जाएगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने  जिला पदाधिकारी व सिविल सर्जन को पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि वैश्विक महामारी से बचाव के लिए 1 मार्च से जिले में आम नागरिक जिनकी उम्र 60 वर्ष पूर्ण हो रही है या उससे अधिक हो तथा 45 से 59 वर्ष आयु वर्ग के वैसे नागरिक जो कोमोर्बोडिटीज से ग्रसित हैं  उनका टीकाकरण किया जा रहा है। इसी कड़ी में 12 मार्च को पंचायतीराज संस्थानों के जनप्रतिनिधियों तथा उनके द्वारा जागरूक  कर स्वास्थ्य संस्थान में लाए गए योग्य लाभुक जिनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक तथा 45 से 59 वर्ष के वैसे जनप्रतिनिधि जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं  , उनका टीकाकरण कराए जाने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। 



लाभार्थियों को प्रोत्साहित करेंगे जनप्रतिनिधि:

सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण के प्रति प्रत्येक जनप्रतिनिधि द्वारा अपने संबंधित क्षेत्र के पात्र लाभार्थियों को  कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। अनुमानित लाभार्थियों की संख्या के आधार पर वैक्सीन एवं सिरिंज की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। पर्याप्त संख्या में टीकाकरण दल का गठन किया गया है। वहीं सभी टीकाकरण केंद्रों पर प्रशिक्षित सत्यापनकर्ता (वेरीफायर ) की प्रतिनियुक्ति की गई है। जनप्रतिनिधियों द्वारा लाभुकों के जागरूकता (मोबिलाइजेशन) के कारण भीड़ एकत्रित होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। इसको लेकर टीकाकरण केंद्रों पर विशेष व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। टीकाकरण केंद्रों पर पेयजल, बैठने के लिए कुर्सी आदि की व्यवस्था की गई है।  साथ ही विधि व्यवस्था के संचालन के लिए कार्रवाई की जा रही है। 



प्रचार प्रसार के लिए लगाया जाएगा बैनर पोस्टर:

कोविड-19 टीकाकरण सत्र  स्थल पर प्रचार प्रसार के लिए पोस्टर-फ्लैक्स बैनर प्रदर्शित किया जाएगा। इसके साथ ही आशा कार्यकर्ता व एएनएम के द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में लोगों को जागरूक ज किया जा रहा है। ताकि पात्र लाभुक अपना टीकाकरण करा सकें । जागरूकता  में सहयोगी संस्थाओं के द्वारा भी सहयोग किया जा रहा है। 



उत्कृष्ट कार्य करने वाले जनप्रतिनिधियों को किया जाएगा सम्मानित:

सिविल सर्जन डॉ जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने कहा कि जिस तरीके से 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर विशेष रूप से टीकाकरण अभियान चलाया गया था। जिसमें महिलाओं ने बढ़-चढ़कर अपना टीकाकरण कराया था। इससे टीकाकरण के लक्ष्य में काफी बढ़ोतरी हुई है।इसको देखते हुए जनप्रतिनिधियों के लिए भी विशेष टीकाकरण अभियान 12 मार्च को चलाया जाएगा और इस अभियान में उत्कृष्ट कार्य करने वाले जनप्रतिनिधियों को सम्मानित करने का भी प्रावधान किया गया है। 



गूगल सीट के माध्यम से होगी रिपोर्टिंग:

12 मार्च को पात्र लाभुकों के  कोविड-19 टीकाकरण की  रिपोर्टिंग गूगल सीट पर करना सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया गया है और इसकी पूर्ण जवाबदेही जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी एवं प्रखंड स्तर पर प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक एवं प्रखंड अनुश्रवण एवं मूल्यांकन सहायक को दी गई है। इससे कार्य में डब्ल्यूएचओ एवं यूनिसेफ के द्वारा तकनीकी सहयोग भी किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।