Breaking News

उत्तराखंड आपदा: रैणी और तपोवन में एक घंटे तक नाचती रही मौत, जो भी सामने आया उसे लील लिया

 


ऋषिगंगा ग्लेशियर के टूटने से आई बाढ़ पर सवार होकर आई मौत रैणी और तपोवन के बीच करीब एक घंटे तक नाचती रही। पहले ऋषिगंगा और फिर धौली गंगा में उफान मारती लहरों ने किसी को बचने का मौका नहीं दिया। जो भी चपेट में आया, उसे लील लिया। राहत और बचाव कार्य शुरू होने के बाद मलबे से निकल रहे शव बाढ़ की क्रूरता को बयां कर रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग अब भी लापता हैं।

सुबह के वक्त जिसने भी ऋषिगंगा और धौलीगंगा का विकराल रूप जिसने भी देखा, वह सहम उठा। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में बाढ़ को देखकर चीखते लोगों में लोगों का भय साफ-साफ नजर आ रहा है। ऊंचाई पर खड़े लोगों ने दूर से धौली गंगा को उफनते हुए देख लिया था। तबाही को आते देख लोगों ने चीखते हुए नीचे प्रोजेक्ट में काम कर रहे लोगों को सावधान करने की पूरी कोशिश की।

लोगों ने चीखते चिल्लाते हुए लोगों को ऊपरी इलाकों में आने को कहा। पर बाढ़ की भीषण आवाज और दूरी होने की वजह से उनकी आवाज नीचे तक नहीं पहुंच पाई। प्रोजेक्ट एरिया में मचती तबाही को देखकर कुछ लोग तो बिलख-बिलखकर रोने भी लगे। स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता कमलेश मैखुरी ने इस मंजर को फेसबुक पर लाइव भी किया। करीब एक घंटे घंटे तक पूरे क्षेत्र में अफरातफरी और भय का माहौल बना रहा। नदी का पानी सामान्य होने के बाद लोगों ने कुछ राहत की सांस ली।


कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।