Breaking News

घर की दहलीज पार कर सामुदायिक बैठक में पहुंची महिलाएं, परिवार नियोजन पर खुलकर की चर्चा




-महिलाओं ने एक सुर में कहा- परिवार नियोजन अपनाएंगे, समाज में खुशहाली लाएंगे

• आरोग्य दिवस पर परिवार नियोजन शिविर का आयोजन

• छोटा और सुखी परिवार के लिए चिंतित महिलाओं ने की चर्चा

• जिले में चल रहा है संचार अभियान


गोपालगंज,19 फरवरी। छोटा व सुखी परिवार के लिए चिंतित महिलाएं घर की दहलीज पार कर सामुदायिक बैठक में उत्साह के साथ पहुंची। परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों पर खुलकर चर्चा की। दरअसल शुक्रवार को जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर रोग दिवस का आयोजन किया गया था। जिसमें महिलाओं व शिशुओं का  टीकाकरण किया गया। टीकाकरण के पश्चात एक संतान वाले दंपतियों को परिवार नियोजन के बारे में जानकारी दी गई। जिसमें गांव की महिलाएं उत्साह के साथ परिवार नियोजन के विभिन्न साधनों पर चर्चा की और स्वस्थ समाज की परिकल्पना को साकार करने में अपनी सहभागिता सुनिश्चित की। केयर इंडिया के परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार ने बताया कि परिवार कल्याण कार्यक्रम को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जिले में केयर इंडिया के सहयोग से संचार अभियान की शुरुआत की गई है। यह अभियान मार्च माह तक चलेगा| इस अभियान के तहत समुदाय स्तर पर विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कर परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता फैलाया जा रहा और इस अभियान का असर भी देखने को मिल रहा है। जिसका परिणाम है कि गांव की महिलाएं घर की दहलीज पार कर सामुदायिक बैठक में शामिल हो रही हैं और इस पर चर्चा भी कर रही हैं ।


स्लोगन के माध्यम से किया गया जागरूक:

इस बैठक के दौरान तख्तियों पर स्लोगन लिखकर महिलाओं को परिवार नियोजन कार्यक्रम के प्रति जागरूक किया गया।

 •जन-जन में फैलाएं एक विचार, छोटा परिवार सुखी परिवार

• कम बच्चे छोटा परिवार, यही है प्रगति का आधार

• परिवार नियोजन को अपना, जीवन खुशहाल बनाओ

• परिवार नियोजन अपनाएंगे, देश खुशहाल बनाएंगे


एक सन्तान वाली महिलाओं को मिली जानकारी:

एएनएम रूपम कुमारी ने बताया परिवार नियोजन को लेकर लोगों को जागरूक करने के दौरान स्थाई एवं अस्थाई उपायों के साथ-साथ समय अंतराल की भी जानकारी दी गई। जिसमें बताया गया कि अगर कोई महिला परिवार नियोजन बंध्याकरण के लिए इच्छुक हैं किन्तु, उनका शरीर बंध्याकरण के लिए सक्षम नहीं है तो ऐसी महिला अस्थाई उपायों को भी अपना सकती हैं। ऐसी महिलाओं के लिए सरकार द्वारा पीएचसी स्तर पर वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। जिसमें  कंडोम, छाया, अंतरा, कॉपर - टी समेत अन्य वैकल्पिक  साधन शामिल हैं। इस बैठक में मुख्य रूप से शून्य या एक सन्तान वाली महिलाओं को शामिल किया गया था।




आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए परिवार नियोजन जरूरी :

परिवार नियोजन  को अपनाने से ना सिर्फ छोटा और सीमित परिवार होगा, बल्कि, महिलाओं का  बेहतर शारीरिक विकास भी संभव होगा। साथ ही इससे  परिवार की आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी । जिससे आप अपने बच्चों को उचित परवरिश के साथ अच्छी शिक्षा हासिल कराने में समर्थ  होंगे।  इससे  समाज में अच्छा संदेश जाएगा और सामाजिक स्तर पर लोग परिवार नियोजन साधनों को अपनाने के प्रति अधिक  जागरूक होंगे। उन्होंने बताया  सीमित परिवार के कारण  बच्चों  की  उचित परवरिश  होती है जिससे  वह मानसिक और शारीरिक रूप से भी  स्वस्थ रहते हैं। इस मौके पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रिंकू देवी, आशा पूजा देवी, एनएम रूपम कुमारी समेत कई महिलाएं मौजूद थी।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।