Breaking News

गोपालगंज- स्वास्थ्य विभाग के कार्यों की सिविल सर्जन ने की समीक्षा




• आरोग्य दिवस सत्र स्थल पर सभी जरूरी लॉजिस्टिक उपलब्ध  कराने के निर्देश

• प्रत्येक सप्ताह होगी समीक्षा बैठक

• जिलाधिकारी के आदेश पर नयी पहल की शुरूआत  


गोपालगंज/23, फ़रवरी। समुदाय के हर व्यक्ति को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए विभाग  प्रतिबद्ध  है। स्वास्थ सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए विभाग की ओर से नए -नए कदम उठाए जा रहे हैं।  इस कड़ी में जिलाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी के आदेश पर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा एक नई पहल की शुरुआत की गई है। अब प्रत्येक सप्ताह स्वास्थ विभाग के कार्यों की समीक्षा की जाएगी और समस्याओं का समाधान भी किया जाएगा। सिविल सर्जन डॉ टीएन सिंह की अध्यक्षता में सप्ताहिक समीक्षा बैठक आयोजित की गई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की गई और इसकी समीक्षा की गई। बैठक में सभी डेवलपमेंट पार्टनर के प्रतिनिधि शामिल थे। 

समीक्षा के दौरान सिविल सर्जन डॉ टीएन सिंह ने नियमित टीकाकरण के ड्यूलिस्ट, एएनएम रजिस्टर और आरोग्य दिवस सत्र स्थल पर सभी लॉजिस्टिक उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। सिविल सर्जन ने कहा  आरोग्य दिवस सत्र स्थल पर बीपी मशीन, हीमोग्लोबिन जांच मशीन एवं  हब कट्टर इत्यादि की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। स्वास्थ्य विभाग के अन्य बिंदुओं के कार्य योजना पर सीएस के द्वारा समीक्षा की गई और कार्य योजना तैयार कर आगे का कार्य करने  के लिए निर्देश दिया गया।



डेवलपमेंट पार्टनर के प्रतिनिधियों के फीडबैक पर होगी पहल:


 डॉ टीएन सिंह ने कहा  समुदाय को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने में आने वाली चुनौतियों और संसाधनों की कमी पर डेवलपमेंट पार्टनर के प्रतिनिधियों से फीडबैक लिया जा रहा है। फीडबैक के आधार पर इस पर सकारात्मक पहल की जाएगी, ताकि समुदाय के हर व्यक्ति को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराई जा सके। प्रत्येक सप्ताह इस बैठक में फील्ड में काम करने वाले सहयोगी संस्था के प्रतिनिधियों से फीडबैक तथा उसके समाधान पर जानकारी ली जाएगी। 


डीएम के आदेश पर शुरू की गई पहल:


जिला अधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी आदेश पर इस पहल की शुरुआत की गई है। प्रत्येक सप्ताह सोमवार को सिविल सर्जन की अध्यक्षता में सप्ताहिक बैठक आयोजित की जाएगी। जिसमें सभी डेवलपमेंट पार्टनर के प्रतिनिधि शामिल होंगे और इस बैठक में वह लिखित रूप से अपना फीडबैक देंगे और उस फीडबैक के आधार पर जिला स्वास्थ्य समिति के पदाधिकारी उसका समाधान करेंगे। 



परिवार कल्याण कार्यक्रम पर दिया जोर:


समीक्षा के दौरान सिविल सर्जन ने कहा  परिवार नियोजन के लक्ष्य को हर हाल में 100% हासिल करना है इसके लिए सभी स्वास्थ्य स्थानों पर आवश्यक और स्थाई व अस्थाई साधनों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए और दवाओं की खरीदारी भी सुनिश्चित करें। 



कोविड नियमों का पालन करते हुए कार्य अपने दायित्वों का निर्वाहन:


डॉ. सिंह ने कहा कि भले ही कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो गई हो। लेकिन कोरोना का खतरा भी कम नहीं हुआ है। इसलिए सभी पदाधिकारियों से अपील है कि कोविड-19 अनुरूप नियमों का पालन करते हुए ही अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें और ड्यूटी के दौरान मास्क और गुलाब का इस्तेमाल जरूर करें ताकि संक्रमण से बचाव किया जा सके। कोविड-19 वैक्सीन के दोनों डोज लेने के 4 सप्ताह बाद एंटीबॉडी का निर्माण होगा। तब कोरोना से बचाव के लिए हमारा बॉडी तैयार हो सकेगा। तब तक हमें इन नियमों का पालन करते रहना आवश्यक है।

इस बैठक में एसीएमओ डॉ एके चौधरी, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ शक्ति कुमार सिंह, डीपीएम धीरज कुमार, डीसीएम निखत परवीन,  डीएमईओ अनुराग कुमार, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ आनंद शंकर, यूनिसेफ के एसएमसी रूबी कुमारी, केयर इंडिया के परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार, डीटीओ ऑन अमरेंद्र तिवारी, डीपीओ-भीएल आनंद कश्यप समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।