Breaking News

बिहार: सारण के रिटायर शिक्षक के बेटे का कश्मीर से जुड़ा आतंकी कनेक्शन का खुलासा, एटीएस ने दबोचा

 


बिहार के सारण में रिटायर शिक्षक के बेटे का जम्मू कश्मीर के आतंकियो से जुड़ा कनेक्शन। एटीएस की टीम ने ज्वाइंट ऑपरेशन के बाद उसे सारण के मढ़ौरा थाना क्षेत्र के देव बहुआरा स्थित पैतृक घर से सोमवार को दबोच लिया। सूचना है कि देव बहुआरा निवासी रिटायर शिक्षक महफूज अंसारी के 25 वर्षीय पुत्र जावेद ने कश्मीर के मुश्ताक नाम के एक युवक को 7 पिस्टल मुहैया करायी थी, जिन्हें पाक आतंकियों तक पहुंचाया गया। बताया जाता है कि बिहार और जम्मू-कश्मीर की एसटीएफ की संयुक्त टीम ने जावेद को दबोचा है। ग्रामीणों के अनुसार गांव में जो पुलिस टीम आई थी उसमें 40 से 50 जवान शामिल थे।

उधर, डीजीपी एसके सिंघल ने बताया कि बिहार पुलिस जम्मू-कश्मीर पुलिस के संपर्क में है। हमें जो सूचनाएं मिली हैं, उसपर आगे की कार्रवाई कर रहे हैं। रविवार को जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने खुलासा किया था कि कश्मीर में सक्रिय आतंकी बिहार से हथियार खरीद रहे हैं। इसके लिए पंजाब में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी छात्रों का इस्तेमाल कर रहे थे, ताकि अवैध हथियारों को घाटी तक लाया जा सके। सिंह ने यह खुलासा स्वयंभू प्रमुख कमांडर हिदायतुल्ला मलिक और जहूर अहमद राथर की गिरफ्तारी के बाद किया था। बिहार से आतंकियों को 7 पिस्टल भेजे जाने की बात सामने आते ही एटीएस और पुलिस की अन्य एजेंसियों को जांच-पड़ताल में लगा गया था।
 
अलीगढ़ में हुई थी जावेद व मुश्ताक की मुलाकात 
जानकारी के अनुसार जावेद की दोस्ती अलीगढ़ के एक कॉलेज में आतंकी कनेक्शन वाले कश्मीर के मुश्ताक नामक एक युवक से हुई थी। जिसके कहने पर जावेद ने सारण से 7 पिस्टल मुश्ताक को मुहैया कराई। मुस्ताक ने पाकिस्तान के इशारे पर आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वालों तक यह पिस्तौल पहुंचाई।

पुलिस टीम देखते ही छत पर भगा जावेद 
स्थानीय मुखिया व अन्य ग्रामीणों का कहना है कि जावेद पहले कहीं बाहर रहकर पढ़ाई करता था। इधर करीब एक माह से घर पर ही रह रहा था। वह घर से बहुत कम ही बाहर निकलता था और घर वाले उसके बीमार रहने की बात बताते थे। जावेद कुल 5 भाई और एक बहन है। पुलिस के आते ही जावेद के घर के पास वाले घर से एक लड़के को उठाया गया, फिर उससे जावेद के बारे में जानकारी लेकर पुलिस उसके घर मे घुस गयी। पुलिस को देख जावेद छत पर भागा, लेकिन उसे वहां दबोच लिया गया।  

पहले भी जुड़े चुके हैं तार
पहले भी आतंकी संगठनों के तार बिहार से जुड़े हैं। इंडियन मुजाहीद्दीन (आईएम), प्रतिबंधित संगठन सिमी के कई सदस्य यहां पकड़े गए हैं। बोधगया और पटना के गांधी मैदान ब्लास्ट के मास्टरमाइंड तहसीन उर्फ मोनू और हैदर अली उर्फ ब्लैक ब्यूटी बिहार से जुड़े हैं। हैदर का औरंगाबाद में ननिहाल है तो मोनू समस्तीपुर का रहनेवाला है। नेपाल सीमा पर मोतिहारी पुलिस ने आईएम के टॉप आतंकी यासिन भटकल और हीदायतुल्ला उर्फ हड्डी को गिरफ्तार किया था। साल 2019 में एटीएस ने बांग्लादेश के आतंकी संगठन जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन (जेएमबी) और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश (आईएसबीडी) से जुड़े दो आतंकियों खैरुल मंडल और अबू सुल्तान को पटना से गिरफ्तार किया था।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।