Breaking News

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत ई-गोल्डन कार्ड बनाने के लिए जिले में चलेगा आयुष्मान पखवाड़ा

 



-आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभार्थियों को 5 लाख रुपये तक का नि:शुल्क चिकित्सा सुविधाएं 

-17 फरवरी से 3 मार्च तक किया जाएगा पखवाड़ा का आयोजन 

-पंचायत स्तर पर कैंप लगाकर बनाया जाएगा गोल्डन कार्ड



पूर्णिया- 11 फरवरी

गोल्डन कार्ड बनाने में शत-प्रतिशत उपलब्धि के लिए 17 फरवरी से 3 मार्च तक आयुष्मान पखवाड़ा आयोजित किए जाने का निर्णय सरकार ने लिया है। जिसके तहत पूर्णिया ज़िले के सभी पंचायतों के आरटीपीएस पटल पर 15 दिनों तक ई-गोल्डन कार्ड निर्माण कार्य का विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस पखवाड़े के दौरान विभिन्न गतिविधियों का भी आयोजन किया जाएगा। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के संबंध में जिलेवासियों को जागरूक करने देने के लिए जिला से लेकर प्रखंड व पंचायत स्तर स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ समन्यवय स्थापित करते हुए आयुष्मान पखवाड़ा को शत प्रतिशत सफल कराने में सहयोग के लिए अपील की गई हैं। ज़िले के सभी ग्राम पंचायतों में शिविर का आयोजन एवं योजना से संबंधित प्रचार प्रसार के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग किया जाएगा। ज़िले के सभी सार्वजनिक स्थलों, आरटीपीएस काउंटर, प्रखंड स्तरीय कार्यालय व ग्राम पंचायतों में ज़्यादा से ज़्यादा जागरूकता लाने को लेकर बैनर व पोस्टर लगाया जाएगा ताकि गांव के लोगों को इसका लाभ मिल सके। इस अवसर पर जिलाधिकारी राहुल कुमार, ज़िला उप विकास आयुक्त मनोज कुमार, अपर समाहर्ता तारिक इकबाल, सिविल सर्जन डॉ उमेश शर्मा, जिला कार्यक्रम प्रबंधक ब्रजेश कुमार सिंह, आयुष्मान भारत के समन्वयक नीलांबर कुमार, जिला सूचना एवं जन सम्पर्क पदाधिकारी दीपक चंद्र देव सहित कई अन्य वरीय अधिकारी मौजूद थे।



पूर्णिया जिले में लगभग 1.20 लाख कार्ड हो चुके है निर्गत:

डीएम


जिलाधिकारी राहुल कुमार ने बताया पूर्णिया ज़िले में आयुष्मान भारत योजना के तहत लगभग 66 हज़ार 219 परिवारों के पास लगभग 1 लाख 19 हज़ार 124 कार्ड निर्गत किए जा चुके हैं|, हालांकि लगभग 4 लाख परिवारों के 19 लाख 38 हज़ार लोगों का गोल्डेन कार्ड दिए जाने का लक्ष्य रखा गया है हैं। शत प्रतिशत लक्ष्य को पूरा करने के लिए पखवाड़ा का आयोजन किया गया है हैं। सदर अस्पताल सहित ज़िले के सभी अस्पतालों में प्रतिदिन कार्ड बनवाने के लिए भीड़ लगी रहती हैं, क्योंकि मरीजों को विभिन्न बीमारियों का इलाज़ व बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं ससमय मिलती हैं, जिस कारण अभी तक 1516 मरीजों को इस योजना के तहत लाभ मिल चुका है। पहले की के अपेक्षा आयुष्मान भारत के लाभार्थियों की संख्या में काफ़ी बढ़ोतरी भी हुई है हैं। सदर अस्पताल पूर्णिया को इस योजना से जुड़े लाभार्थियों को निःशुल्क इलाज़ कराने के लिए राज्य में पहला स्थान मिल चुका है हैं। आयुष्मान भारत योजना को संचालित करने वाली नेशनल हेल्थ एजेंसी ने एक वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। इस योजना के लाभार्थी अपना नाम खुद भी mera.pmjay.gov.inवेबसाइट पर देख सकते हैं या फ़िर हेल्पलाइन नंबर 14555 पर कॉल के माध्यम से जानकारी ले सकते है।


पंचायती राज कार्यपालक सहायकों  की सेवा ली जाएगी: 

पंचायती राज विभाग के अंतर्गत पंचायत स्तर पर पंचायती राज कार्यपालक सहायकों सहायको की सेवा उपलब्ध है। जिनकी सेवा पूर्व में भी विशेष अभियान में सफलतापूर्वक ली गई है। इस अभियान में भी ली जाएगी। जिन ग्राम पंचायतों में पंचायती राज कार्यपालक सहायक उपलब्ध नहीं हैं, वहां आयुष्मान पखवाड़े तक के लिए स्वास्थ्य विभाग, ग्रामीण विकास विभाग आदि के कार्यपालक सहायकों सहायको की सेवा ली जाएगी। 


वरीय विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर माइक्रोप्लान तैयार किया गया-

जिला पदाधिकारी राहुल कुमार की के अध्यक्षता में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना को शत प्रतिशत सफल संचालन के लिए आयुष्मान पखवाड़ा का आयोजन किया गया है हैं। ज़िले के सभी वरीय विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर माइक्रोप्लान तैयार किया गया है हैं। जिसके तहत डीसीएलआर संजय सिंह को पूर्णिया पूर्व प्रखंड व कसबा, अपर समाहर्ता शशि भूषण कुमार शशि को श्रीनगर व जलालगढ़, बनमनखी के एएसडीएम बलवीर दास को के नगर व बनमनखी, धमदाहा के डीसीएलआर महमद शाहजहाँ को बी कोठी व धमदाहा, वरीय अपर समाहर्ता अनुपम को भवानीपुर व रुपौली, वायसी के अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी प्रभु दास को डगरुआ व वायसी के साथ ही वरीय अपर समाहर्ता आलोक चंद्र चौधरी को अमौर व बैसा प्रखण्ड का नोडल पदाधिकारी बनाया गया है हैं। ताकि आयुष्मान पखवाड़ा आयोजित किए जाने के लिए ई-कार्ड निर्गत किए जाने से संबंधित किसी भी तरह की गतिविधियों में किसी प्रकार की कठिनाई नहीं हो|, इसके लिए निर्वाचन कार्य के तरह ग्रामीण स्तर, पंचायतवार, वार्डवार माइक्रोप्लान बनाया गया है हैं। पूर्व में भी पंचायत स्तरीय शिविर के आयोजन के दौरान बॉयोमीमैट्रिक डिवाइस उपलब्ध कराई गयी है। वैसे ग्राम पंचायत जिनके लिए बायोमीमेट्रिक डिवाइस क्रय नहीं हो पाया था, उन पंचायतों में सिविल सर्जन बॉयोमीमैट्रिक डिवाइस उपलब्ध कराएंगे।




-पंचायत स्तर पर सभी वार्ड सदस्यों के सहयोग से बीपीएल परिवारों को किया जाएगा जागरूक: 

आयुष्मान पखवाड़े के दौरान आयोजित शिविर के माध्यम से सभी लाभार्थी परिवार के सदस्यों को वार्ड सदस्य के सहयोग से जागरूक किया जाएगा। व्यक्तिगत पहचान के लिए आधार कार्ड, आधार नंबर तथा परिवारिक सदस्यता सत्यापन के लिए राशन कार्ड या प्रधानमंत्री द्वारा प्रेषित पत्र साथ शिविर में आने के लिए प्रेरित किया जाएगा। इस पुनीत कार्य में जीविका दीदी, आशा कार्यकर्ता, एएनएम के साथ-साथ चिकित्सा पदाधिकारी, बीएचएम व बीसीएम की सहायता ली जाएगी। शिविर के दौरान जारी ई-कार्ड का वितरण विशेष अभियान के 15 वें दिन एक साथ ज़िले के सभी आरटीपीएस काउंटर या पंचायत भवन पर संबंधित ग्राम पंचायत के स्थानीय जन प्रतिनिधियों एवं आशा, एएनएम के सहयोग से किया जाएगा।



शिविर में इन बातों का रखना होगा ध्यान:

-कोविड-19 को देखते हुए सामाजिक दूरी के साथ ही  कोविड-19 के संबंध में सरकार द्वारा निर्गत आवश्यक दिशा-निर्देशों का अनुपालन करना होगा अनिवार्य।


-आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एवं इसकी विशेषताओं से संबंधित बैनर एवं पोस्टर सार्वजनिक स्थलों पर लगाया जाएगा।


-ज़िले के सभी लाभुकों को इस योजना के संबंध में तैयार किए गए पंपलेट एवं सूचीबद्ध अस्पतालों की सूची उपलब्ध कराई जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।