Breaking News

- 8 फ़रवरी से दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर एवं पदाधिकारियों को कोविड-19 का टीकाकरण

 


-प्रथम चरण में अबतक जिले के. 8134 में से 5268 हेल्थ वर्करों का टीकाकरण कार्य पूर्ण  

- टीकाकरण से लोगों में आत्मविश्वास जागा


किशनगंज , 4  फरवरी| 

जिले में प्रथम चरण के टीकाकरण को लेकर विशेष अभियान के तहत अबतक कुल  18 सत्रों में 5268 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया गया। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने सभी जिलों के जिला पदाधिकारी एवं सिविल सर्जन को 8 फ़रवरी से दूसरे चरण का टीकाकरण प्रारंभ करने का आदेश दिया है | विदित हो कि कोविड 19 से सुरक्षा प्रदान करने के लिए जिले में 16 जनवरी से टीकाकरण कराया जा रहा है | प्रथम चरण में प्राथमिकता के आधार पर सभी स्तर के सरकारी एवं निजी स्वास्थ्य संस्थान के स्वास्थ्यकर्मियों, डॉक्टर एवं पदाधिकारियों का टीकाकरण किया जा रहा है | प्रथम चरण के टीकाकरण के लक्ष्य की प्राप्ति हेतु जिले में विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है | शत प्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति के लिए बुधवार को सिविल सर्जन ने सभी प्रभारी चिकत्सा पदाधिकारी को पत्र लिखकर आदेश निर्गत किया है | 


- 8 फ़रवरी से दूसरे चरण का टीकाकरण होगा आरंभ 

सिविल सर्जन डॉ श्री नंदन ने बताया कि राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार द्वारा सूचित किया है कि जिले के सभी फ्रंट लाइन वर्कर कर्मियों एवं पदाधिकारियों का कोविड-19 टीकाकरण भारत सरकार के निदेशानुसार प्रारंभ किया जाना है | अतः जिलान्तर्गत सभी फ्रंट लाइन वर्कर कर्मियों एवं पदाधिकारियों का कोविड -19 टीकाकरण 8 फ़रवरी से प्रारंभ किये जाने के लिए सभी आवशयक तैयारी एवं कार्रवाई करने का निर्देश सिविल सर्जन द्वारा दिया गया है | उन्होंने बताया कि जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा पोर्टल पर पंजीकृत जिले के स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण जिन 18 सत्र स्थलों के माध्यम से किया जा रहा है उन्हीं सत्र स्थलों पर फ्रंट लाइन वर्कर कर्मियों एवं पदाधिकारियों का कोविड -19 टीकाकरण प्रारंभ करने की तैयारी जिले में की जा रही है । बताते चलें कि कोरोना महामारी को मात देने के लिए कोविशील्ड एवम् कोवैक्सीन टीके का उपयोग देश में किया जा रहा है। जिले में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन की प्रथम खुराक पहले चरण के लिए पंजीकृत लाभार्थियों को दी जा रही है। पहले चरण के पंजीकृत 8134 में से 5268  स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया जा चुका है। टीका लगने के 28 दिन बाद दूसरे डोज का टीका दिया जाएगा। उसके 15 दिन के बाद तक यानी सभी लोगों पर 45 दिन तक निगरानी की जाएगी। तब तक उन्हें मास्क, सैनिटाइजर का उपयोग एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा। 


टीकाकरण से लोगों में आत्मविश्वास जागा

सिविल सर्जन डॉक्टर श्री नंदन ने बताया पहले चरण टीकाकरण से लोगों में आत्मविश्वास जागा है। भ्रामक बातों में न आकर टीकाकरण के लिए एक दूसरे का मनोबल बढ़ाया जाना चाहिए। जिसका नाम पहले से दर्ज है वह अपने निकटतम केंद्र पर जाकर अपना टीका जरूर लें । साथ ही जो स्वास्थ्य कर्मी जिनका नाम कोविन पोर्टल पर दर्ज नहीं है अगर वह टीकाकरण कराना चाहते हैं तो उनके लिए भी अवसर उपलब्ध कराया गया है। वर्तमान में केवल स्वास्थ्य विभाग एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ता को ही कोरोना का टीका दिया जा रहा है। टीका लेने वाले सदर अस्पताल सहित जिले के सभी चिकित्सकों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं पैरा मेडिकल स्टाफ के अलावा सफाई कर्मचारियों ने इसे पूरी तरह से सुरक्षित बताया है। उन्होंने कहा लोगों को किसी अफवाह में ना पड़ते हुए अपने एवं परिवार के लिए टीका अवश्य लेना चाहिए| यह पूरी तरह सुरक्षित है। जितने भी लाभार्थी टीकाकृत हुए हैं , वह सभी कम से कम आधा घंटा के बाद से ही अपने दैनिक कार्य पर सकुशल वापस हो गए।  उन्होंने आम लोगों को संदेश देते हुए कहा कि टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। जिन लोगों ने वैक्सीन लगवाई है उनपर आधे घंटे तक नजर रखी जा रही और किसी को कोई साइड इफेक्ट नहीं हुआ है और ना ही किसी को कोई दूसरी समस्या उत्पन्न हई है। टीकाकरण के बाद सभी पर निगरानी रखी जा रही है। इसके लिए सभी टीकाकरण केंद्रों पर चिकित्सक व एम्बुलेंस की प्रतिनियुक्ति की गई है। टीकाकरण के दौरान जो भी एहतियात बरतनी है सभी बरती जा रही है। किसी को कोई दूसरी समस्या उत्पन्न ना हो, इस बात की निगरानी रखी जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।