Breaking News

डब्लूएचओ के ज़ोनल कोऑर्डिनेटर एवं केयर इंडिया के डीपीओं ने अपने टीम के साथ लिया कोविड-19 टीका



-वैक्सीनेशन के लिए कोरोना योद्धाओं को किया जा रहा है जागरूक:

-कोरोना की वैक्सीन पूरी तरह से है सुरक्षित


पूर्णिया: 05 फरवरी|- वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए जिले में टीकाकरण अभियान की शुरुआत कर दी गयी है। जिले के 16 केंद्रों पर उन स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जा रहा है, जिन्होंने कोरोना काल में कोरोना योद्धा के रूप में अपने कर्तव्यों का निवर्हन किया है। जब पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ था तो उस समय सभी लोग अपने-अपने घरों में कैद थे। लेकिन इन कोरोना योद्धाओं ने अपनी परवाह किये बगैर दिन रात एक कर स्वास्थ्य केंद्रों में इलाज कराने के लिए आने वाले मरीजों की सेवा पूरी तन्मयता के साथ करने में लगे हुए थे। शुक्रवार को भी जिले के सभी चयनित सत्र स्थलों पर कोविड-19 का टीकाकरण किया गया है। टीकाकरण के लिए सत्र स्थल का निर्धारण निर्वाचन बूथ के अनुसार ही किया गया है। पहला कक्ष लाभार्थियों को टीका लेने के लिए वेटिंग एरिया, दूसरा कक्ष टीकाकरण के लिए एवं तीसरा कक्ष टीकाकरण के पश्चात 30 मिनट तक लाभार्थी की निगरानी के लिए बनाया गया है। ऑब्जर्वेशन रूम में पर्याप्त संख्या में बेड एवं कुर्सी की उपलब्धता भी सुनिश्चित की गयी है।




-पूरी तरह सुरक्षित हैं वैक्सीन: डॉ दिलीप

डब्लूएचओ के ज़ोनल समन्यवयक डॉ दिलीप कुमार झा ने कहा भगवान की कृपा से हमलोगों ने सुरक्षित वैक्सीन बना लिया है| हमारे देश के वैज्ञानिकों के द्वारा बनाई गई वैक्सीन न सिर्फ़ भारत बल्कि विदेश के लोगों के द्वारा भी उपयोग में लाई जा रही है। इसका कोई साइड इफैक्ट भी नहीं हो रहा है। जैसे पोलियो की वैक्सीन लेने से देश से यह बीमारी समाप्त हो गई हैं, उसी तरह से कोविड-19 जैसी संक्रमण वाली जानलेवा बीमारी को जड़ से मिटाने के लिए देश में निर्मित कोरोना वैक्सीन बहुत ही ज्यादा लाभदायक है। जो लोग इसका टीका लगवाएंगे वे भविष्य में कोरोना से बचे रहेंगे। कुछ लोग वैक्सीन को लेकर तरह-तरह की अफवाह फैलाने का प्रयास कर रहे हैं, जो बिल्कुल गलत है। अभी तक टीका लिए गए किसी भी व्यक्ति में किसी तरह की परेशानी नहीं देखी गई है। इससे यह साबित होता है कि दी जा रही वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है।


सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को बढ़ चढ़ कर

कराना चाहिए टीकाकरण: चंदन 

शुक्रवार को सदर अस्पताल परिसर स्थित टीकाकरण केंद्र पर केयर इंडिया के डीपीओ चंदन कुमार सिंह ने भी अपने टीम के 10 लोगों के साथ कोरोना वैक्‍सीन का टीका लगवाया। टीकाकरण के बाद उन्होंने कहा, 'मैं पूरी तरह से सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोरोना का वैक्‍सीन पूरी तरह से सुरक्षित तो हैं ही इसके साथ साथ असरदार भी है । हमलोगों को अपने वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और नियामक संस्‍थाओं पर विश्वास ही नही बल्कि पूरा भरोसा भी करना होगा। टीकाकरण के बाद मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा है, वैक्सीन लगने से मुझे कोई परेशानी नहीं हुई  और मैं लोगों की सेवा करता रहूंगा। आप सभी से निवेदन है  कि आपलोगों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है और ना ही किसी के द्वारा भ्रामक सूचनाओं पर ध्यान देना है।




टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध हैं एईएफआई किट :


ज़िले के सभी टीकाकरण केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा में एईएफआई किट  उपलब्ध हैं । स्वास्थ्य कर्मियों के   कोविड-19 टीकाकरण के बाद होने वाली  किसी भी प्रकार की समस्या  से निपटने के लिए इसकी उपलब्धता जरूरी है । सभी टीकाकरण केंद्रों पर लाभार्थियों को आब्जर्वेशन रूम में आधे घंटे तक बैठाया जाता है । ताकि वैक्सीनेशन के बाद उसका कोई साइड इफेक्ट तो नहीं हो रहा है  इसकी जांच हो  सके। टीकाकृत व्यक्तियों को चक्कर या उल्टी जैसी शिकायत का अवलोकन करने के लिए उन्हें केंद्र के आब्जर्वेशन रूम में  रखा जाता हैं | उसके बाद उन्हें आधा घंटा देखभाल करने के बाद ही वापस घर जाने दिया जा रहा है ।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।