Breaking News

हेल्थ केयर वर्करों का कोविड-19 टीका लेने का आज अंतिम मौका: सीएस




सिविल सर्जन व डीपीएम ने विभिन्न टीकाकरण केंद्रों का किया निरीक्षण


• सीएस शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल करने का दिया निर्देश


छपरा। जिले में 16 जनवरी से कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई है। प्रथम चरण में हेल्थ केयर वर्कर जैसे- निजी स्वास्थ्य कर्मी, सरकारी स्वास्थ्य कर्मी,  सफाई कर्मी, आईसीडीएस के कर्मचारी को टीका लगाया जा रहा है। जिले में अब तक लगभग 70% टीकाकरण का कार्य किया जा चुका है। प्रथम चरण के टीकाकरण के लक्ष्य को शत प्रतिशत हासिल करने के लिए विभाग कृत संकल्पित है। इसको लेकर विभाग के द्वारा लगातार प्रयास भी किया जा रहा है। इसी कड़ी में सिविल सर्जन डॉ झा माधवेश्वर और जिला स्वास्थ समिति के डीपीएम अरविंद कुमार के द्वारा जिले के कई टीकाकरण स्थलों का निरीक्षण किया गया तथा टीकाकरण कार्य का जायजा लिया गया। सिविल सर्जन ने बताया कि 5 फरवरी तक प्रथम चरण का टीकाकरण का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जितने भी हेल्थ केयर वर्कर,  आईसीडीएस कर्मी कोविड-19 का टीका नहीं लिए है वे आज ले ले। यह उनके लिए अंतिम मौका है, इसके बाद उनका टीकाकरण किया जाना संभव नहीं होगा। उन्होंने कहा टीकाकरण कराने के लिए लोगों का प्रोत्साहित किया जाना जरूरी है। टीकाकरण सुरक्षित और असरदार है। टीकाकरण के दूसरे और तीसरे चरण के लिए लोगों में को खुद को मानसिक रूप से तैयार कर लेना चाहिए। भविष्य में किसी भी कोविड संक्रमण से बचाव के लिए ऐसा करना महत्वपूर्ण हो जाता है। इस दौरान सिविल सर्जन ने संबंधित पदाधिकारियों को टीकाकरण के लक्ष्य को शत प्रतिशत हासिल करने का निर्देश दिया। 


6 फरवरी से होगा फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण:


जिला स्वास्थ समिति के डीपीएम अरविंद कुमार ने बताया कि जिले में 6 फरवरी से फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण की शुरुआत की जाएगी। इसमें जिला प्रशासन के कर्मचारी पदाधिकारी, पुलिस प्रशासन और पंचायती राज विभाग कर्मचारी और पदाधिकारियों का टीकाकरण किया जाएगा। इसको लेकर डाटा बेस तैयार किया गया है। 



कोरोना संक्रमण से निजात का एकमात्र उपाय है टीकाकरण: 


जिला स्वास्थ समिति के डीपीएम अरविंद कुमार ने कहा कि कोविड-19 से स्थाई निजात का एकमात्र उपाय वैक्सीन ही है। इसलिए, वैक्सीनेशन से परहेज नहीं करें, बल्कि उत्साह के साथ वैक्सीनेशन कराएं। इससे आप तो स्वस्थ होंगे ही साथ ही आपका परिवार और समाज भी सुरक्षित रहेंगे। इसलिए, इस मौके को छोड़े नहीं, बल्कि इसे अवसर समझकर इसका लाभ लें। 


28 दिन के बाद पड़ेगा दूसरा डोज: 


 जिन स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड टीके का पहला डोज लगा है उन  सभी कर्मियों को 28 दिनों के बाद दूसरा डोज दिया जाएगा। तब तक ये लोग कोरोना की गाइडलाइन का पालन करेंगे। सामाजिक दूरी बनाकर रहेंगे और जहां कहीं भी घर से बाहर जाएंगे, मास्क जरूरी तौर पर पहनेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।