Breaking News

10 महीने के बाद बिहार में छठी व आठवीं के स्कूल खुले, कक्षाओं पर पुलिस का कब्जा, स्कूल से वापस लौटे छात्र

 


कन्या मध्य विद्यालय अदालतगंज (पटना) में सोमवार सुबह दस बजे छात्र पहुंचे, लेकिन उन्हें स्कूल से वापस कर दिया गया, क्योंकि स्कूल परिसर पर पुलिस वालों का कब्जा है। इस कारण स्कूल बंद कर दिया गया। इस स्कूल में कुल 12 कमरे हैं,  हर कमरे में पुलिस वाले रह रहे हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण से बचाव का कोई इंतजाम स्कूल में नहीं है। स्कूल प्राचार्य ने डीईओ को सूचना देकर स्कूल को बंद रखा। यहीं हाल बालक मध्य विद्यालय गोलघर का है। स्कूल में दस कमरे हैं, लेकिन हर कमरे में पुलिस वाले हैं। ऐसे में स्कूल को सोमवार को बंद रखा गया। छात्र स्कूल आएं लेकिन प्राचार्य ने वापस घर भेज दिया। 

ज्ञात हो कि दस महीने बाद सोमवार से छठीं से आठवीं तक के स्कूल खोलने का आदेश शिक्षा विभाग द्वारा दिया गया था, लेकिन राजधानी पटना के कई स्कूलों पर पुलिस वालों का कब्जा है। पिछले दस से 12 महीनो से पुलिस वाले स्कूल परिसर के हर कमरे और बरामदे पर रह रहे हैं। कक्षाओं को रसोई घर और सोने का कमरा बना रखा है। ऐसे में सोमवार को वो सारे स्कूल बंद रहे जहां पर पुलिस वाले हैं। जेडी गर्ल्स हाई स्कूल बोरिंग रोड, प्राथमिक विद्यालय अदालतगंज आदि स्कूल भी पुलिस वालों के रहने से बंद रखा गया। 

न तो सेनेटाइज किया गया और न ही सफाई हुई
गृह मंत्रालय के दिशा निर्देश के अनुसार स्कूल खुलने से पहले पूरे परिसर की साफ सफाई कर सेनेटाइज करना है। इसके बाद बेंच-डेस्क में छह फीट की दूरी पर छात्रों का बैठाना है। ये सारा कुछ करने में स्कूल प्रशासन असमर्थ था। इससे स्कूल को बंद रखा गया। अब ये स्कूल इंटर और मैट्रिक परीक्षा के बाद खुलेंगे, क्योंकि तब तक पुलिस वाले स्कूल में ही रहेंगे। 

कोरोना काल के दौरान पुलिस वालों का रहा कब्जा  
कोरोना संक्रमण के कारण मार्च 2020 से स्कूल बंद हैं। स्कूल में छात्र नहीं आएं, इसका फायदा पुलिस वालों ने उठाया। बिना डीईओ आदेश के अपनी मर्जी से स्कूल परिसर में रहने लगे। बालक मध्य विद्यालय गोलघर प्रशासन की माने तो कई बार डीईओ का आदेश भी हमने पुलिस वालों से मांगा है। लेकिन बिना आदेश के उन्होंने यहां पर रहना शुरू कर दिया है। जबकि पहले स्कूल प्राचार्य को इसकी सूचना दी जाती थी।  

हर कक्षा में पुलिस वाले हैं। सारे बेंच-डेस्क को हटा दिया गया है। ऐसे में छात्रों को कैसे बुलाते। इस कारण मैंने बीओ-डीईओ को सूचना देकर सोमवार को स्कूल बंद कर दिया। सुबह छात्राएं आयीं, लेकिन उन्हें वापस कर दिया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।