Breaking News

Bihar: मोतिहारी में संपत्ति विवाद में गोली मारकर चचेरे भाइयों की हत्या, फायरिंग करते हुए भागे अपराधी

 


मोतिहारी के घोड़ासहन थाना क्षेत्र की निमुईया पूर्वी पंचायत के ललुआ गांव में संपत्ति विवाद में बदमाशों ने गुरुवार रात अमित लाल यादव (35) और उसके चचेरे भाई गामा राय (55) की गोली मार कर हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश फायरिंग करते हुए भाग निकले। मामले में पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। एसपी नवीन चंद्र झा ने घटनास्थल पर पहुंच कर जांच की। 

मृतक अमित लाल यादव के पिता तपेश्वर प्रसाद यादव के बयान पर केस दर्ज हुआ है। उन्होंने पुलिस को दिये आवेदन में गांव के ही लालबाबू राय व उनकी पत्नी चुनमुनी देवी तथा तीन पुत्रों राजेश्वर राय, कामेश्वर राय व सूरज राय के अतिरिक्त यादव टोला कदमवा के राजू राय, उनकी पत्नी सुरशांति देवी व पुत्र रंजन कुमार, चिरैया थाना क्षेत्र के ढाठपर गांव के प्रमोद राय, झापस राय, रामेश्वर राय, पिपरा गांव के राजू राय व जितना थाना क्षेत्र के रेंगनिया निवासी सुवंश राय सहित 13 नामजद व 25-30 अज्ञात को हत्या के लिए आरोपित किया है। मामले में राजू राय, उसकी पत्नी सुरशांति देवी व पुत्र रंजन कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

आवेदन में बताया गया है कि घटना की रात करीब दस बजे जब वे दरवाजे पर आग ताप रहे थे, तभी आरोपित बंदूक व अन्य हथियार लेकर आ गये और उनके पुत्र अमित को पकड़ लिया। परिवार वाले विरोध कर रहे थे, तभी सिर में गोली मार कर अमित की हत्या कर दी। हत्यारों ने सभी को मारने का प्रयास किया। लेकिन हल्ला सुन ग्रामीणों के दौड़ने पर वे भागने लगे। भागने के क्रम में अपनी झोपड़ी में सोये उनके भतीजा गामा राय के सिर में भी गोली मार दी जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गयी। हत्यारे फायरिंग करते हुए दक्षिण दिशा की ओर भाग निकले। तपेश्वर यादव ने बताया कि उनकी जमीन पर कब्जा करने के लिए पूर्व में भी आरोपितों ने जानलेवा हमला किया था। थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार मिश्र के बताया कि शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। आरोपितों की तलाश में लगातार छापेमारी की जा रही है। 

मामले की छानबीन की जा रही है। तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अन्य आरोपितों के शीघ्र गिरफ्तारी का निर्देश दिया गया है। 
- नवीन चंद्र झा, एसपी

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।