Breaking News

बिहार: कटिहार में सिपाही भर्ती का प्रश्नपत्र वायरल, परीक्षार्थी गिरफ्तार, परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट बाद मोबाइल से फोटो ले पटना भेजा

 


सिपाही चयन परीक्षा का प्रश्नपत्र रविवार को परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट बाद ही सुबह 10:10 बजे वायरल हो गया। प्रश्नपत्र शहर के उमा देवी मिश्रा बालिका उच्च विद्यालय परीक्षा केंद्र से वायरल हुआ। इस मामले में परीक्षार्थी रौतारा थाना क्षेत्र के रमेली निवासी विक्रम कुमार मंडल और वीक्षक मिथिलेश कुमार राय को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। विक्रम का मोबाइल जब्त कर प्रशासन छानबीन में जुट गया है। 

प्रश्नपत्र वायरल होने की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। एसपी विकास कुमार, एसडीएम शंकर शरण ओमी व एसडीपीओ अमरकांत झा दलबल के साथ परीक्षा केंद्र पर पहुंचे। एसपी ने बताया कि इस मामले में केन्द्राधीक्षक रतन कुमार सिंह व दंडाधिकारी संजय कुमार के बयान पर परीक्षार्थी और वीक्षक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। एसपी ने बताया कि केंद्राधीक्षक रतन कुमार सिंह और आरोपी शिक्षक का पक्ष लेने वाले शिक्षक ददन कुमार सिंह के खिलाफ भी विभाग को रिपोर्ट की जाएगी। इस बात की भी जांच की जा रही है कि प्रश्नपत्र वायरल मामले में उमा देवी मिश्रा गर्ल्स उच्च विद्यालय के अन्य शिक्षकों या किसी अन्य लोगों की संलिप्ता है या नहीं। इस मामले की जांच में जो भी लोग दोषी पाये जाएंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

कैसे हुआ प्रश्नपत्र लीक
सिपाही चयन परीक्षा देने के लिए 228 परीक्षार्थियों की तुलना में 208 परीक्षार्थी परीक्षा देने के लिए पहुंचे थे। परीक्षा सुबह के 10 बजे शुरू हो गई थी। प्रश्नपत्र मिलते ही कक्ष संख्या नौ के एक परीक्षार्थी ने अपने मोबाइल से प्रश्नपत्र का फोटो खींच लिया। जिसे एक अन्य विद्यार्थी द्वारा देखने के बाद इसकी सूचना एक वीक्षक को दी गई। कुछ देर बाद करीब 10.10 बजे संबंधित परीक्षार्थी टॉयलेट करने के बहाने बाहर जाने की इजाजत वीक्षक से मांगा। वीक्षक द्वारा परीक्षार्थी को टॉयलेट करने की अनुमति देने के बाद वह बॉथरूम से अपने मोबाइल से पटना के पटेल छात्रावास में रहने वाले एक युवक के मोबाइल नंबर पर परीक्षा के प्रश्नपत्र को वायरल कर दिया। इसके बाद वह अपने परीक्षा भवन में आ गया। इस बीच अन्य छात्रों द्वारा प्रश्नपत्र का फोटो को वायरल करने की शिकायत जब दोबारा वीक्षक से की गई तो वीक्षक ने संबंधित परीक्षार्थी से मोबाइल ले लिया। उसे  प्रश्नपत्र को मोबाइल से वायरल करने के आरोप में परीक्षा भवन से बाहर कर दिया। इसके बाद इसकी सूचना दंडाधिकारी और पुलिस पदाधिकारी ने जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन को दी। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।