Breaking News

तीन बड़े कारणों से फैल सकता है वैश्विक महामारी कोरोनावायरस का संक्रमण, भ्रांतियों से बचें

 


• 3 बड़े कारणों के खिलाफ तीन मूल मंत्र किए गए तैयार

• स्वच्छता व साफ-सफाई का रखें विशेष ख्याल

• आपके हाथों में वायरस हो सकता है इसलिए अपने हाथों को नियमित रूप से धुलाई करें


छपरा। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण का प्रसार भले हीं धीरे-धीरे काम हो गया हो। लेकिन इसका खतरा अभी भी बरकरार है। थोड़ी सी लापरवाही से संक्रमण फैल सकता है। इसलिए बेहद सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। कोरोना संक्रमण को लेकर लोगों के मन में तरह-तरह की भ्रांतियां हैं और इन्हीं भ्रांतियों के कारण संक्रमण भी फैल रहा है। तीन बड़े कारणों से संक्रमण फैलने का अधिक खतरा है। लोगों के मन में यह भ्रांति है कि "वह मेरा सहकर्मी है तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूँ", "वह मेरे दोस्त हैं तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूं", वह मेरे रिश्तेदार है तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूं" इन तीन बड़े कारणों से कोरोना का संक्रमण फैलने का  अधिक खतरा है।  ऐसे में इन भ्रांतियों से लोगों को बचने की जरूरत है। कहीं भी किसी भी जगह सतर्कता ही कोरोना से बचाव का एकमात्र साधन है। इसलिए घर से निकलते समय मास्क को सही ढंग से पहने। बिना मास्क घर से नहीं निकले।



ये है तीन भ्रांतियां:

•वह मेरा सहकर्मी है तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूँ

•वह मेरे दोस्त हैं तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूं

• वह मेरे रिश्तेदार है तो मैं उनसे बिना मास्क के बात कर सकता हूं



इन तीन मूल मंत्रो से कोरोना का होगा अंत: 

• हमेशा मास्क का प्रयोग करें

• अपने हाथों को नियमित रूप से धोते रहें

• एक दूसरे से 2 गज यानि 6 फीट की दूरी बनाकर रखें



अक्सर छुएं जाने वाले सतहों की करे नियमित साफ सफाई: 

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कहा कि अक्सर छूयी जाने वाली सतहों को छूने के बाद हमेशा अपने हाथों को धोएं, अपने मुंह नाक और आंखों को छूने से बचें। इलैक्ट्रिक उपकरण, मोबाइल, दरवाजे का हैंडल, कीबोर्ड, टेलीफोन, सीढिया, लिफ्ट का बटन जैसे अन्य सतहों को छूने के बाद अपने हाथों को अच्छी तरह से सफाई कर ले ताकि संक्रमण का प्रसार ना हो सके। इन सतहों पर संक्रमण होने का खतरा रहता है। 


जागरूकता ही बचाव सबसे बड़ा उपाय:


सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कहा कि जागरुक रहना हर खतरे से बचने का सबसे प्राथमिक तरीका है। अगर आप किसी खतरे को लेकर जागरुक हैं तो न तो आप बेचैन होंगे और न ही कोई आपको भयभीत कर सकता है। अगर खतरा आ भी गया तो आप उसका बेहतर तरीके से उपचार  कर सकते है। साथ ही उन्होंने बताया यदि आपके आस-पास किसी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण के लक्षण दिख रहे हैं तो फौरन नज़दीकी अस्पताल को संपर्क करें।


कोविड-19 अनुरूप व्यवहारों को हर समय पालन करें:

सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने कहा कि कोविड-19 अनुरूप व्यवहारों का हर समय पालन करें और अपने आसपास के लोगों के लिए एक सुरक्षित वातावरण बनाएं। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक करना हम सब की सामूहिक जिम्मेदारी है। कोविड-19 से स्वयं को सुरक्षित रखने का सबसे महत्वपूर्ण उपाय है कि हम सफाई से रहे, मास्क लगाएं और सभी से 6 फीट की दूरी बनाकर रखें।


इन बिंदुओं पर विशेष ध्यान:

• मास्क का प्रयोग अवश्य करें

• हाथों को बार-बार पानी और साबुन से धोएं या सैनिटाइज करें

• सहयोगियों से परस्पर दूरी बनाकर रखें

• आगंतुकों से मिलते समय भी परस्पर दूरी रखें और बाचतीत के दौरान भी मास्क का प्रयोग आवश्यक है

• कार्य के दौरान अति आवश्यक वस्तु को ही छुए

• सहकर्मियों से बात करें, अपने मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखें

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।