Breaking News

अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस पर किया गया शिविर का आयोजन



- हर वर्ष 01 अक्टूबर को मनाया जाता है बुजुर्ग दिवस

- शिविर में किया जा रहा बुजुर्गों का स्वास्थ्य जांच व दिया जा रहा परामर्श


- 01 से 07 अक्टूबर तक चलेगा शिविर


- बुजुर्गों को स्वास्थ्य जांच के लिए चलाई जा रही जागरूकता


कटिहार : 01 अक्टूबर


अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस पर ज़िला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल में शिविर का उद्घाटन सिविल सर्जन डॉ डीएन पाण्डेय ने किया. आयोजित शिविर में उपस्थित सभी बुजुर्गों का स्वास्थ्य जांच की गई और उन सभी बुजुर्गों को आपने स्वास्थ्य पर ध्यान रखने हेतु परामर्श भी दिया गया. ज्ञात हो कि राज्य स्वास्थ्य समिति, बिहार के कार्यपालक निदेशक सह स्वास्थ्य सचिव मनोज कुमार द्वारा सभी जिले के सिविल सर्जन को पत्र जारी कर 01 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस मनाए जाने और शिविर लगाकर बुजुर्गों की स्वास्थ्य जांच करने सम्बंधित निर्देश दिया गया था. निर्देश का पालन करते हुए सदर अस्पताल के साथ ही जिले के सभी अस्पतालों, अनुमंडलीय अस्पतालों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, रेफरल अस्पताल आदि में भी जांच केंद्र बना कर बुजुर्गों की जांच की गई. उद्घाटन के दौरान डीआईओ डी.एन. झा, डीएस डॉ. आर.एन पंडित, अस्पताल प्रबंधक भावेश रंजन, लेखापाल रितेश कुमार, केअर इंडिया से निशांत कुमार, क्लर्क राजेश सिन्हा, मेट्रोन अनुपमा कुमारी आदि उपस्थित रहे.


बढ़ते उम्र के साथ ही स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना जरूरी :


शिविर का उद्घाटन करते हुए सिविल सर्जन डॉ. डी. एन. पाण्डेय ने कहा बढ़ती उम्र के साथ ही शरीर में बीमारियां भी घर करने लगती है. वृद्धावस्था में उच्च रक्तचाप, मधुमेह, गठिया, पार्किंसंस, मनोरोग, अल्जाइमर, हृदय रोग, नेत्र ज्योति विकार, कम सुनाई देना आदि सामान्य रूप से होने शुरू हो जाते हैं. इससे निपटने के लिए बुजुर्गों को नियमित जांच करवाने के साथ ही व्यायाम और योग आदि भी करते रहना चाहिए. वृद्ध दिवस पर विशेष शिविर लगाकर बुजुर्गों के स्वास्थ्य की विशेष जांच की जाएगी. जांच के साथ-साथ बुजुर्गों एवं उनके परिजनों को बुजुर्गों के स्वास्थ्य का ध्यान रखने सम्बन्धी परामर्श भी दिया जाएगा, जिससे कि लोग अपने घर के बुजुर्गों का अच्छी तरह ध्यान रख सकें. 


सात दिन तक चलाया जाएगा जांच शिविर : 

अंतर्राष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस पर आयोजित स्वास्थ्य जांच एवं परामर्श शिविर 01 अक्टूबर से 07 अक्टूबर तक जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में चलाया जाएगा. आयोजित शिविर में बुजुर्गों की जांच बिल्कुल निःशुल्क होगी व जांच के साथ ही उन्हें दवाएं भी उपलब्ध कराई जाएगी. शिविर में ओपीडी की सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेगी. खड़े रहने से होने वाली परेशानियों का ध्यान रखते हुए आयोजित हो रही शिविर में बुजुर्गों के बैठने की पूरी व्यवस्था कराई गई है. कोरोना संक्रमण का भी खयाल शिविर में रखा जाएगा. इसके लिए शिविर में सभी लोग मास्क का उपयोग करेंगे और निर्धारित शारीरिक दूरी का भी पूरा ध्यान रखेंगे.


गैर संचारी रोगों से बुजुर्गों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत :

जिला गैर संचारी रोग पदाधिकारी डॉ. बी.के. गोपालका ने कहा बढ़ते उम्र के साथ बुजुर्गों में गैर संचारी रोगों की समस्या बढ़ने लगती है. ऐसे रोगों में हृदय रोग, लकवा, उच्च रक्तचाप, श्वसन रोग, मधुमेह, कैंसर विशेष हैं. वैश्विक महामारी कोविड-19 के इस संक्रमण काल में जितनी मृत्यु हो रही है उसका 60 प्रतिशत से ज़्यादा मृत्यु गैर संचारी रोगों के कारण होती है. काफ़ी लंबे समय तक चलने वाले बीमारियों को गैर संचारी रोग कहा जाता है. ऐसी बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक नही जा पाती है. ऐसी  बीमारी फैलने में बहुत ज्यादा समय लग जाता है और शुरू के दिनों में उसके लक्षण दिखाई तो नहीं देता हैं जबकि कुछ वर्षो के बाद वहीं बीमारी अपनी जड़े जमा लेता हैं जिसका इलाज लंबे समय तक चलता रहता है. बुजुर्गों को ऐसे रोगों का इलाज पर विशेष ध्यान रखना चाहिए.


जागरूकता के लिए भी चलाया जा रहा अभियान :

बुजुर्गों की स्वास्थ्य जांच शिविर की जानकारी सभी लोगों तक पहुँचे इसके लिए भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा पहल किया जा रहा है. लोगों तक इसकी जानकारी पहुँचाने के लिए शिविर में रंगीन बैनर लगवाये गए हैं. शहर के साथ-साथ गांव में भी अलग-अलग माध्यमों से लोगों को शिविर स्थल और वहाँ मिल रहे सुविधाओं की जानकारी दी जा रही है. लोगों तक सूचना पहुँचाने के लिए आशा, एएनएम आदि को भी अपने क्षेत्र में लोगों को आयोजित शिविर की जानकारी देने के निर्देश दिए गए हैं.

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।