Breaking News

पोषण होगा सही तो बीमारियों को मात देना होगा आसान

 


- गर्भवती व धात्री महिलाओं के साथ नवजात शिशुओं एवं किशोरियों के पोषण पर विशेष ध्यान

- सीडीपीओ ने दिया पोषण का सन्देश, हरी पत्तेदार सब्जियां व फल को आहार में शामिल करने की सलाह 


पूर्णिया, 11 सितंबर

वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान लोग खान-पान को लेकर काफ़ी सतर्क दिख रहे थे। पौस्टिक आहार लेने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा था क्योंकि जब तक पौष्टिक या पोषणयुक्त आहार नही लिया जाता है तब तक आप पूरी तरह से तंदुरुस्त नहीं रह सकते है। इसी कोरोना काल में समेकित बाल विकास परियोजना के तहत कार्य करने वाली आगनबाड़ी सेविकाओं ने भी घर-घर भ्रमण कर पोषणयुक्त आहार लेने के लिए सभी को जागरुक किया। पोषण होगा तभी कुपोषण और रोगों से लड़ने की शक्ति होगी। 

 

- पोषण के लिए बड़ा संदेश 

पूर्णिया पूर्व सदर सीडीपीओ राजेश रंजन ने बताया कि पोषण अभियान की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा 8 सितंबर 2018 को राजस्थान के झुनझुन ज़िले से किया गया था और उसी के बाद से पूरे देश में सितंबर में एक महीना पोषण महीने के रूप में मनाया जा रहा है। मानव जीवन के प्रथम हजार दिन बहुत ही महत्वपूर्ण होता हैं क्योंकि इसी हजार दिन में शारीरिक, मानसिक, भाषाई, संज्ञानात्मक सहित कई अन्य गुणों का सम्पूर्ण रूप से विकास होता है. कोरोना के इस काल में पोषण की बहुत ज्यादा आवश्यकता हो गई हैं।


- हर किसी से की जा रही अपील  

पोषण अभियान के तहत गर्भवती माताओं, दूध पिलाने वाली महिलाएं, नवजात शिशुओं एवं किशोरियों के पोषण पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है। ताकि वह अपने पोषण को लेकर जागरूक हों। खान-पान में हरी व पत्तेदार सब्जियां, सहजन के साथ ही इसका पत्ता, चुकंदर, कड़ी पत्ता व फल में प्रचुर मात्रा में लें, इसमें पोषक तत्व रहता है। सबसे खास बात यह है कि यह शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में सस्ता व सुलभ तरीके से हर किसी को मिल जाता है।


- सही पोषण के रूप में हरी पत्तेदार सब्जियां व फल हर जगह सस्ता व सुलभ

महिला पर्यवेक्षिका मनीषा कुमारी ने बताया कि इस पोषण परामर्श केंद्र के माध्यम से हमलोग यह बताना चाहते हैं कि हम सभी के घर व परिवार के लोग सहजन व इसके पत्ते, चुकंदर, कड़ी पत्ता, चुरा व गुड़ सहित हरी पत्तेदार सब्जियों का ही प्रयोग करें, क्योंकि इसमें सबसे ज़्यादा प्रचुर मात्रा में विटामिन्स, मिनरल्स, खनिज पदार्थ रहते हैं। कोरोना के इस काल में पौस्टिक आहार लेते हैं तो अपनी इम्युनिटी पावर को बढ़ाने में बहुत हद तक कामयाबी मिल सकती है। पोषण परामर्श केंद्र के उद्घाटन के दौरान उपस्थित सभी आईसीडीएस कर्मी व महिला पर्यवेक्षिका संक्रमण से बचाव के उपाय के साथ मौजूद रहीं। सामाजिक दूरी बनाकर कार्यक्रम को सफल बनाने में हर कोई अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में लगा था। इस अवसर पर पोषण अभियान के जिला समन्यवयक निधि प्रिया, पोषण अभियान के सहायक सुधांशु कुमार, गुंजन कुमारी, विजेता रानी, ज्योत्स्ना कुमारी, बुलबुल रानी सहित अन्य कर्मी मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।