Breaking News

सिविल सर्जन की अध्यक्षता में कालाजार उन्मूलन व पोलियो अभियान की जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक



• जिले में 11 अक्टूबर से चलेगा पल्स पोलियो अभियान


• कालाजार उन्मूलन की ओर अग्रसर है सारण जिला


• कालाजार से बचाव के लिए सभी प्रखंडों में चल रहे छिड़काव का कार्य


छपरा। जिला प्रतिरक्षण कार्यालय कक्ष में सिविल सर्जन डॉक्टर माधव झा की अध्यक्षता में कालाजार उन्मूलन व पल्स पोलियो अभियान के जिला स्तरीय टास्क फोर्स कमेटी की बैठक की गई। बैठक में संबंधित पदाधिकारियों को सिविल सर्जन ने आदेश दिया कि लक्ष्य के अनुरूप कार्य किया जाए। पल्स पोलियो अभियान के सफलता के लिए सा समय माइक्रो प्लान तैयार कर जिला मुख्यालय को उपलब्ध कराया जाए। इसके साथ ही संबंधित कर्मियों टीका दल कर्मियों को प्रशिक्षित किया जाए। सिविल सर्जन डॉक्टर माधवेश्वर झा ने कहा कि पल्स पोलियो अभियान के दौरान एक भी बच्चा छूटना नहीं चाहिए। जिले में 11 से 15 अक्टूबर तक पल्स पोलियो अभियान चलाया जाएगा अभियान के दौरान कोविड-19 से बचाव के लिए जारी प्रोटोकॉल का पालन करना भी सुनिश्चित करना होगा। 6 लाख से अधिक बच्चों को पल्स पोलियो की दवा पिलाई जाएगी। कालाजार उन्मूलन की समीक्षा करते हुए सिविल सर्जन ने कहा कि सारण जिला कालाजार उन्मूलन की ओर अग्रसर है ।लगातार कालाजार के मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। इससे बचाव के लिए जिले के सभी प्रखंडों में छिड़काव का कार्य शुरू किया गया है। बैठक में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा, जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ दिलीप कुमार सिंह, एनसीडीओ डॉ एचसी प्रसाद, जिला स्वास्थ समिति के डीपीएम अरविंद कुमार, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ रंजीतेश कुमार, यूनिसेफ के जिला समन्वयक आरती त्रिपाठी, वीबीडीसी प्रीतिकेश कुमार, सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ राम इकबाल प्रसाद समेत सभी प्रखंडों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी शामिल थे। 


11 से 15 अक्टूबर  व 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक चलेगा पोलियो अभियान:


जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार शर्मा  ने बताया कि जिले में 11 से 15 अक्टूबर 2020 एवं 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक पल्स पोलियो अभियान चलाया जाएगा। अभियान के दौरान नवजात शिशु को पोलियो की खुराक पिलाए जाने पर विशेष ध्यान दिया जाए एवं खुराक पिलाने के पश्चात नियमित टीकाकरण के ड्यू लिस्ट में समाहित किया जाएगा। सभी दल कर्मियों के पास पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी। मुख ट्रांजिट स्थलों जैसे बस स्टैंड रेलवे स्टेशन एवं चौक चौराहों से गुजरने वाले बच्चों पर विशेष ध्यान देते हुए प्रतिरक्षण सुनिश्चित किया जाए। ट्रांजिट स्थलों पर प्रशिक्षित टीका कर्मियों को ही कार्य पर लगाया जाएगा। 



कालाजार उन्मूलन की ओर अग्रसर है सारण:


जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ दिलीप कुमार सिंह ने बताया कि सारण जिले को कालाजार से मुक्त करने के लिए स्वास्थ्य विभाग कृत संकल्पित है। इसके लिए जिले के सभी प्रखंडों में कालाजार से बचाव के लिए छिड़काव का कार्य किया जा रहा है। पिछले साल की तुलना में इस बार कालाजार के मरीजों में काफी कमी आई है। जिले के 1811 गांव कालाजार से प्रभावित है। पिछले साल की तुलना में इस साल 42% कालाजार मरीजों की संख्या में कमी आई है।  प्रतिदिन टीम से कम से कम 60 घरों में पूर्ण छिड़काव कराना सुनिश्चित किया जा रहा है।


माइक्रो प्लान के तहत किया जा रहा है छिड़काव:


वीबीडीसी प्रितिकेश कुमार ने बताया कि जिले में सिंथेटिक पैराथायराइड का छिड़काव तैयार माइक्रो एक्शन प्लान के अनुसार शत-प्रतिशत करवाना सुनिश्चित किया जा रहा है। छिड़काव का कार्य सुबह 9:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक किया जा रहा है। छिड़काव कार्य में आशा के द्वारा कम से कम 2 दिन पूर्व संबंधित ग्रामों को छिड़काव की तिथि के बारे में जानकारी दी जा रही है ।इसके साथ साथ कालाजार मरीजों की खोज भी की जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।