Breaking News

विद्युत विभाग की कारस्तानी से हरबोड़ा नदी पर करोड़ो रूपये की लागत से बना पुल बेकार।

 

संवाददाता। 

नरकटियागंज से मनोजकुमार मिश्र ।

पश्चिमी चम्पारण के नरकटियागंज नगरपरिषद मे बिहार राज्य में प्रशासनिक पदाधिकारियों  की उदासीनता, नौकरशाहों की लापरवाही मनमानी से बिहार की जनता और जनप्रतिनिधि दोनों ही परेशान हाल हैं। विशेषकर पंचायती राज व्यवस्था के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों की स्थिति बदतर है। पंचायत प्रतिनिधियों ने बताया कि विकास कार्यों में प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों की मनमानी चलती है। सर्वविदित है कि सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में लूट मची हुई है।  वार्ड सदस्यों का कहना है कि निर्माण कार्य में बीडीओ जबरन हस्ताक्षर कराकर मनमाने ढंग से काम कराते हैं, पर्सनल कमीशन बिना लिए कोई काम आगे नहीं बढ़ता और अब जाँचकर जनप्रतिनिधियों पर प्राथमिकी दर्ज किया जा रहा है।जनप्रतिनिधियों का कहना है कि घटिया निर्माण में पंचायत प्रतिनिधियों के साथ प्रखण्ड विकास पदाधिकारी व ग्राम पंचायत राज पदाधिकारी पर मुकदमा सुनिश्चित करें सरकार। इससे गुणवत्तापूर्ण कार्य होने की संभावना बढ़ जाएगी। नल जल योजना, गली नाली योजना के अंतर्गत बिना तकनीकी संसाधन वालों से काम कराकर जनता की गाढ़ी कमाई का बंदरबांट कर लिया गया है। नल जल योजना में पाइप 6 इंच नीचे ले जाया गया और इसके लिए पीसीसी सड़क काट दी गयी। एक तो सड़क का निर्माण नही हो रहा। दूजा निर्मित सड़क को बर्बाद किया जा रहा है। विकास कार्य और नौकरशाहों की मनमानीकी एक बानगी यह कि हरबोड़ा नदी पर करोड़ो की लागत से बना पुल विगत महीनों से  अनुपयोगी साबित हो रहा है। कहीं बिना पुल परेशानी और कही पुल बन जाने के बाद परेशानी। गौरतलब है कि विद्युत विभाग की मनमानी को लेकर 33000 हज़ार वोल्ट का हाई टेंशन तार पुल के ऊपर से गुज़र रहा है। आमजन व विधायक की माँग पर एक महीना में तार बदलने की बात सामने आई, अलबत्ता महीनों बीत जाने के बाद भी विद्युत विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं किया। जिसके कारण करोड़ो की लागत से निर्मित पुल बेकार साबित हो रहा है। पुल निर्माण में अभियन्त्रण विभाग ने आमजन की जगह चीनी मिल परवाह ज्यादा किया है। मानो अभियंताओं को चीनी मिल ने नौकरी दे रखा है।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।