Breaking News

योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के लिए सोशल साइट्स पर कैम्पेनिंग में काफी आगे निकली माधवी

 


28 हज़ार फैन फॉलोइंग के साथ कई नेताओं को पीछे छोड़ा

छपरा: (sarn)कोविड काल में जनता के बीच पहुंचने के लिए जदयू महिला जिलाध्यक्ष माधवी सिंह सोशल साइट्स का सहारा ले रही हैं. 28 हज़ार से अधिक फैन फॉलोइंग के साथ फेसबुक पर कैंपेनिंग में वो ज़िले में कई नेताओं से काफी आगे हैं. माधवी सिंह ने मांझी विधानसभा के साथ पूरे सारण में कई नेताओं को पीछे छोड़ते हुए फेसबुक के माध्यम से तेजी से जनसंपर्क कर रही हैं. साथ ही हर रोज उनके फोलोवर्स काफी तेजी से बढ़ रहे हैं. जिलाध्यक्ष ने बताया कि कोविड काल मे हम रैलियां नहीं कर सकते, हमारे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी का निर्देश है कि हम फ़ेसबुक व्हाट्सअप आदि के माध्यम से क्षेत्र के लोगों से ज्यादा से ज्यादा जुड़े. बता दें कि जदयू महिला जिलाध्यक्ष सॉइल साइट्स का सहारा लेकर सरकार की योजनाओं को जन जन तक पहुंचाने के कार्य मे जुटी हैं. इसके अलावें वो क्षेत्र में भी घूम जर जनता तक नीतीश कुमार के द्वारा किये गए कार्यों को पहुंचाने का काम कर रही हैं.



28 हज़ार फैन फॉलोइंग के साथ कई नेताओं को पीछे छोड़ा


माधवी सिंह ने बताया कि हम सभी पहले की तरह बड़ी-बड़ी सभाएं नहीं कर सकते, ऐसे में सोशल साइट्स ही एकमात्र सहारा है जो हमें आम जनता तक पहुंचा सकता है. माधवी सिंह ने के फेसबुक पर 28 हज़ार से अधिक फॉलोअर्स  हैं. हर रोज उनकी फैन फॉलोइंग भी काफी तेजी से बढ़ रही है. साथ ही मांझी के युवाओं में भी माधवी को लेकर अलग ही क्रेज है. फेसबुक आदि के माध्यम से वो मांझी विधानसभा की जनता से सीधा संवाद कर पा रही हैं. उन्होंने बताया कि कोरोना ने बहुत कुछ बदल दिया है, हमें आगे और भी बदलाव देखने को मिलेंगे. 


फेसबुक के माध्यम से हज़ारों लोगों की मदद


माधवी सिंह ने लोगों को जोड़ने के लिए यूआरएल भी जारी किया है. जो 

https://www.facebook.com/officialmadhavisinghJDU/ है. उन्होंने बताया कि आज नेताओं की रैलियों ऑनलाइन की जा रही हैं. बैठक भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये की जा रही है. कोविड से बचने के लिये हम अभी बड़ी बड़ी सभाएं नहीं कर सकते, कोविड काल मे लोगों के फेसबुक पर सन्देश देखकर उनकी मदद भी की गई. काफी लोग दूसरे राज्यों में फंसे थे उनतक सोशल साइट्स के माध्यम से ही सम्पर्क करके मदद पहुंचाया गया, साथ मांझी में कई लोगों ने फेसबुक व्हाट्सअप आदि के माध्यम से सम्पर्क करके मदद मांगी तब उन्हें मदद पहुंचाई गई.

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।