Breaking News

दरियापुर (सारण)- गजानंद महाराज पधारों महिमा आपकी न्यारी-

 


#सारण में एक मात्र गणपति मंदिर में दर्शनार्थियों ने मत्था टेका

दरियापुर (सारण)

" गजानंद महाराज पधारों कीर्तन की तैयारी है ।

रिद्धि  सिद्धि  समृद्धि प्रदाता ' बिपिन कुमार की बारी है।" दरियापुर प्रखंड के फतेहपुर गांव स्थित जिला में गणपति की एक मात्र मंदिर अलग शोभा बढा रही है। शनिवार को गणेश चतुर्थी त्योहार पर मंगलदाता का आह्वान   व्यास लक्ष्मण सिंह भाव विभोर होकर गाते रहे उक्त गीत । बहरहाल, स्वर के साथ टेक व ताली में ग्रामीणों के अलावा  शिक्षक कुमार शैलेश, शैलेन्द्र सिंह, प्रदीप राय फिज़िकल डिस्टेंस मेनटेनेन्स के साथ देखे गए । बहरहाल, कोरोना महामारी पर विजय व बाढ़ की विभीषिका से रक्षा के लिए भगवान गणपति की पूजा व मन्नतें मांगते देखे गए, क्षेत्र वासी।

 *गणेशावतार उत्सव का रंग उत्सवी नहीं रहा* गो कि गणेश चतुर्थी त्योहार पूरे देश में हर्षोल्लास से मनाया जाता हैं । मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्णाटक, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु में 10 दिवसीय  लोकप्रिय त्योहार है । बिहार, उप्र आदि प्रदेशों दो दिवसीय पूजन तो  होता है,किंतु शायद ही कोई गणपति मंदिर हो । शिव मंदिर में गणेश जी प्रतिमा तो है। बाबा कीनाराम आश्रम, क्रींकुंड में एक दंत गणपति की प्रतिमा है और बाबा अवधूत भगवान राम आश्रम, पड़ाव, वाराणसी में गणेश पीठ तो है। किन्तु गणपति मंदिर एकमेव मंदिर है जहाँ प्रति वर्ष गणेश चतुर्थी त्योहार पर लोक गीत गायकी परंपरा जीवंत रही है।  आकाशवाणी कलाकार ड्राइवर त्यागी, व्यास लक्ष्मण सिंह, ईश्वरधारी सिंह, जीवन प्रकाश सिंह, पंडित शशिकांत मिश्र बुढाई बाबा आदि गणपति से स्वर और गायन शक्ति माँगते आ रहे हैं । कोरोना महामारी के कारण इस साल उत्सवी माहौल फीका रहा।

 *जेहि सुमिरत सिद्धि होए गणनायक करिवर बदन*  गोस्वामी तुलसीदास से लेकर तमाम भक्त कवियों ने गणेश की वंदना के बाद ही कथा को आगे बढ़ाते हैं । आंचलिक क्षेत्रों में सनातनी संस्कृति में गणेश पूजन ' गणपति गुंगवामहे ' से आरंभ होते हैं ।बहरहाल गणपति का अर्थ संतो के स्वामी बताया गया है । शिव पुराण ,रूद्र संहिता प्रभृति ग्रंथ  में भाद्रपद चतुर्थी गणेशावतार का वर्णन है। भगवती माँ पार्वती के मैल से अवतरित भगवान गणेश जी प्रथम पूज्य हैं, जो उन्हें उनके माता-पिता ने वरदान दिया है।

 *फतेहपुर गांव में गणपति की प्रेरणा*  दरियापुर प्रखंड के मठिया ग्रामवासी व सीबीआई के डीजीपी रहे स्वर्गीय राजदेव सिंह के सैन्य अधिकारी चिकित्सक पुत्र  व पारिवारिक जनों में परमेश्वर सिंह ,राकेश सिंह, गुडन सिंह डब्लू उपाध्यक्ष, राहुल कुमार तथा  फतेहपुर ग्रामीणों के सहयोग से डाक्टर साहब की कल्पना का मूर्त रूप गणपति मंदिर है। बहरहाल, यहाँ सबों के मनोरथ गणपति पूर्ण करते हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।