Breaking News

मोतिहारी में वाहन की ठोकर से पीडब्ल्यूडी के कर्मी की मौत, एनएच 28ए को जाम कर पुलिस गश्ती गाड़ी व कई निजी वाहनों के शीशे तोड़े

 


चिरैया थाने पर हमले का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि सड़क हादसा में पीडब्ल्यूडी के कर्मी राजेश्वर पाण्डेय की मंगलवार को हुई मौत के बाद लोगों का आक्रोश भड़क गया। घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने छतौनी थाने के डोमा चौक के पास एनएच 28ए को जाम कर पुलिस गश्ती गाड़ी व कई निजी वाहनों के शीशे तोड़ दिये। गुस्साये लोगों ने होमगार्ड जवान नरेन्द्र मिश्र व एक निजी वाहन के चालक की जमकर पिटाई कर दी। सदर डीएसपी अरुण कुमार गुप्त के नेतृत्व में आयी पुलिस टीम के तीन घंटे के प्रयास के बाद सड़क जाम समाप्त हुआ। सदर डीएसपी श्री गुप्ता ने बताया कि पुलिस की ओर से व निजी चालक की ओर से भी उपद्रवी तत्वों पर केस दर्ज किया जायेगा। जाम समाप्त हो गया है।
मिली जानकारी के अनुसार, बड़ा बरियारपुर के निवासी राजेश्वर पाण्डेय दवा लेकर पैदल डेरा पर लौट रहे थे। करीब पौने एक बजे में अज्ञात वाहन की ठोकर से घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गयी। सिर इस कदर कुचल गया था कि आधा घंटा तक शव की पहचान ही नहीं हो रही थी। वे पीडब्ल्यूडी विभाग के एम्बुलेंस गाड़ी के खलासी थे। छह माह बाद वे सेवानिवृत होने वाले थे। शव की पहचान होते ही उनके गांव व मोहल्ले के लोग आक्रोशित हो गये। एनएच को जाम कर प्रदर्शन के साथ मुआवजा की मांग करने लगे। मुजफ्फरपुर व बेतिया रोड में तीन-तीन किलोमीटर तक वाहनों की लंबी कतारें लग गयीं। इसी बीच छतौनी थाने की गश्ती गाड़ी पहुंची तो गुस्साये लोग वाहन पर टूट पड़े। पुलिस गाड़ी पर सवार जवान व पुलिस अधिकारी जान बचाकर भाग गये। गुस्साये लोगों ने पुलिस गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर दिया। भागने के दौरान एक होमगार्ड जवान पकड़ा गया, जिसकी लोगों ने पिटाई कर दी। जाम के दौरान जो वाहन पहुंच रहे थे उसके शीशे लाठी डंडा से लोग तोड़ने लगे। अतिरिक्त पुलिस बल के सहयोग से भीड़ पर काबू पाया गया। काफी मशक्कत के बाद शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिये सदर अस्पताल भेजा गया।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।