Breaking News

बाढ़ के पानी से नरकटियागंज-लौरिया- रामनगर मार्ग अवरुद्ध, जिला से सम्पर्क भंग।



संवाददाता। नरकटियागंज से मनोजकुमार मिश्र ।
पश्चिम चम्पारण के नरकटियागंज अनुमण्डल लौरिया-रामनगर, लौरिया गोनौली लौरिया-नरकटियागंज मुख्य पथ पर आवागमन तीसरे दिन भी रहा ठप्प। प्रखण्ड प्रशासन ने मुख्य मार्गों में बारकेडिंग कराया। बाढ का पानी व पानी की धार देखने से प्रशासन ने मना किया है। सड़क पर दो फीट पानी बह रहा है। जिससे जनजीवन अस्त व्यसत । प्रखंड के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घूसा। लौरिया प्रखंड के दर्जनों गांवों में 3 दिनों से बाढ़ का पानी घुस गया है। जिससे सैकड़ों घरों में भी बाढ़ का पानी एक से दो फीट तक घुसा हुआ है। कई घरों के लोगों का चूल्हा चौका तक बंद हो गया है। दनियाल-परसौना पंचायत के सुअरछाप, पिपरा, गोबरौरा, मटियारिया, बंगाली कॉलोनी, सिंहपुर, सतवरिया, धोबनी, सुगौली, मलाहीटोला, गोनौली, डूमरा, सिसवनिया पंचायत का बारवा, लौरिया, मरहिया और सिसईं पंचायत के नोनियाटोला में बाढ़ ने तबाही मचाया है। इन गांवों के सैकड़ों घरों में अभी तक पानी समाया हुआ है। इन घरों के सभी सदस्य किसी ऊंचे जगहों पर शरण ले रखे है। कई लोग अपने घरों में ही चौकी के ऊपर चौकी रखकर अपने सामानों के साथ अपना समय व्यतीत कर रहे हैं। इधर लौरिया प्रखण्ड प्रशासन भी अभी तक कोई सहायता उपलब्ध नहीं कराया है और न ही कोई सुधी ली गई है। पंचायतों के मुखिया मंटू मिश्रा, भोला सिंह, मुन्ना साह, रमाकांत साह, दिनेश राम, चिंटू तिवारी ने पीड़ितों की सुधि लेने की बात बताई गई है।ग्रामीणों का कहना है कि मुखिया अपने पास से कितनी मदद कर सकेंगे। प्रशासन को तो सुधि लेनी चाहिए। इस बावत सीओ संजय कुमार सिंहा से संपर्क करने पर हमारे प्रतिनिधि को बताया कि हमने कुछ दल बनाकर जाँच कराने को कहा है कि अविलंब गाँवों में जाकर देखें और सूचना दें कि किस गाँव में और कितने परिवारों के घरों में बाढ़ का पानी घूसा है और क्या क्षति हुई है। उन्हें चिन्हित कर प्रतिवेदन माँगी गई है, जिसके आधार पर  अविलंब उनकी सहायता की जा सके।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।